भारतीय रेल यात्री आरक्षण पूछताछ

Please help Indian railways and government of India in moving towards a digitized and cashless economy. Eradicate black money.
English
रियायत नियम


निम्नलिखित कोटियों के व्यक्ति रियायत के पात्र हैं (1.4.07 की स्थिति)


क्र.सं. व्यक्तियों की कोटि रियायत का प्रतिशत तत्व
I विकलांग यात्री
1 एक मार्गरक्षी सहित शारीरिक रूप से विकलांग/पेराप्लेजिक व्यक्ति (मार्गरक्षी के बिना यात्रा नहीं कर सकते) जो किसी भी प्रयोजन से यात्रा कर रहे हों -   द्वितीय श्रेणी, शयनयान, प्रथम श्रेणी, 3 एसी, वातानुकूल कुर्सीयान में 75%

-   प्रथम एसी और द्वितीय एसी में 50%

-   राजधानी/शताब्दी गाड़ियों की 3 एसी और वातानुकूल कुर्सीयान में 25%s

-   एमएसटी और क्यूएसटी में 50%.

-   रियायत के इसी तत्व के लिए एक मार्गरक्षी भी पात्र है.
2 किसी भी प्रयोजन से अकेले अथवा किसी मार्गरक्षी के साथ यात्रा कर रहे नेत्रहीन व्यक्ति
3 किसी भी प्रयोजन से एक मार्गरक्षी सहित यात्रा कर रहे मानसिक रूप से विकलांग व्यक्ति
4 किसी भी प्रयोजन से अकेले अथवा किसी मार्गरक्षी सहित यात्रा कर रहे मूक एवं बधिर व्यक्ति (एक ही व्यक्ति में दोनों रोग एकसाथ हों). -   द्वितीय श्रेणी, शयनयान, प्रथम श्रेणी में 50%,.
-   एमएसटी और क्यूएसटी में 50%.
-   रियायत के इसी तत्व के लिए एक मार्गरक्षी भी पात्र है.
II रोगी
5 उपचार/आवधिक जाँच के लिए अकेले अथवा एक मार्गरक्षी के साथ यात्रा कर रहे कैंसर रोगी. -   द्वितीय श्रेणी, प्रथम श्रेणी, वातानुकूल कुर्सीयान में 75%.

-   शयनयान और 3 एसी में 100%.

-   प्रथम एसी और द्वितीय एसी में 50%.

-   रियायत के इसी तत्व के लिए एक मार्गरक्षी भी पात्र है (शयनयान और 3 एसी को छोड़कर जिसमें मार्गरक्षी को 75 रियायत मिलती है%).
6 उपचार/आवधिक जाँच के लिए अकेले अथवा एक मार्गरक्षी के साथ यात्रा कर रहे थैलीसीमिया रोगी. -   द्वितीय श्रेणी, शयनयान, प्रथम श्रेणी, 3 एसी, वातानुकूल कुर्सीयान में 75%.

-   प्रथम एसी और द्वितीय एसी में 50%.

-   रियायत के इसी तत्व के लिए एक मार्गरक्षी भी पात्र है
7 हृदय शल्यक्रिया के लिए अकेले अथवा एक मार्गरक्षी के साथ यात्रा कर रहे हृदय रोगी.
8 गुर्दा रोपण ऑपरेशन/डायलेसिस के लिए अकेले अथवा एक मार्गरक्षी के साथ यात्रा कर रहे हृदय रोगी.
9 उपचार/आवधिक जाँच के लिए अकेले अथवा एक मार्गरक्षी के साथ यात्रा कर रहे हैमोफीलिया रोगी - रोग का तीव्र और हल्का रूप. -   द्वितीय श्रेणी, शयनयान, प्रथम श्रेणी, 3 एसी, वातानुकूल कुर्सीयान में 75%.

-   रियायत के इसी तत्व के लिए एक मार्गरक्षी भी पात्र है
10 उपचार/आवधिक जाँच के लिए अकेले अथवा एक मार्गरक्षी के साथ यात्रा कर रहे है तपेदिक/लुपस वलगेरिस रोगी.  -   द्वितीय श्रेणी, शयनयान, प्रथम श्रेणी, 3 एसी, वातानुकूल कुर्सीयान में 75%.

-   रियायत के इसी तत्व के लिए एक मार्गरक्षी भी पात्र है
11 उपचार/आवधिक जाँच के लिए गैर संक्रामक कुष्ठ रोगी.
12 नामित एआरटी केन्द्रों पर उपचार/ जाँच के लिए एड्स रोगी. -   द्वितीय श्रेणी में 50%,.

-   एमएसटी और क्यूएसटी में 50%.

-   रियायत के इसी तत्व के लिए एक मार्गरक्षी भी पात्र है.
13 किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा कर रहे ऑस्टोमी रोगी.
14 मेल/एक्सप्रेस गाड़ियों द्वारा मान्यताप्राप्त अस्पतालों तक उपचार/आवधिक जाँच के लिए यात्रा करने वाले अप्लास्टिक अनीमिया से पीड़ित रोगी -   शयनयान, एसी 2 टीयर, 3 एसी, वातानुकूल कुर्सीयान श्रेणियों के मूल किरायों में 50%

 
15 Pमेल/एक्सप्रेस गाड़ियों द्वारा मान्यताप्राप्त अस्पतालों तक उपचार/ आवधिक जाँच के लिए यात्रा करने वाले सिकल सैल अनीमिया से पीड़ित रोगी -   शयनयान, एसी 2 टीयर, 3 एसी, वातानुकूल कुर्सीयान श्रेणियों के मूल किरायों में 50%.

 
III वरिष्ठ नागरिक
16 पुरूष – 60 वर्ष और अधिक.

्त्री – 58 वर्ष और अधिक.

किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाले.
-   सभी श्रेणियों में 40%..

-   सभी श्रेणियों में 50%..

-   राजधानी/शताब्दी/दुरोंतो गाड़ियों में भी. 
IV -   पुरस्कार प्राप्तकर्ता
17 विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक और प्रशंसनीय सेवाओँ के लिए भारतीय पुलिस पुरस्कार के विजेता, 60 वर्ष की आयु के बाद किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाले. -   पुरूषों के लिए 50%

-   स्त्रियों के लिए 60%

-   सभी श्रेणियों में और राजधानी/शताब्दी/जन शताब्दी गाड़ियों मे भी.
18 श्रम पुरस्कार विजेता – किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाले उत्पादकता और इनोवेशन के लिए प्रधानमंत्री के श्रम पुरस्कार के विजेता औद्योगिक कामगार. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.
19 राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता शिक्षक – किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाले शिक्षा के क्षेत्र में अनुकरणीय सेवा के लिए भारत के राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.
20 किसी भी प्रयोजन के लिए – राष्ट्रीय शौर्य पुरस्कार के प्राप्तकर्ता बालक के साथ यात्रा करने वाला कोई अभिभावक. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.
V युद्ध शहीदों की विधवाएं
21 किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाली युद्ध शहीदों की विधवाएं -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.
22 किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाली – आतंकवादियों और उग्रवादियों के विरुद्ध कार्रवाई में मारे गए पुलिस कर्मियों और अर्द्धसेना कार्मिकों की विधवाएं. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.
23 किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाली – श्रीलंका में कार्रवाई के दौरान  मारे गए आईपीकेएफ कार्मिकों की विधवाएं. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.
24 किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाली – आतंकवादियों और उग्रवादियों के विरुद्ध कार्रवाई में मारे गए सैन्य कार्मिकों की विधवाएं. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.
25 किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाली – 1999 में कारगिल में ऑपरेशन विजय के शहीदों की विधवाएं. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.
VI छात्र
26 गृहनगर और शैक्षणिक दौरों पर जाने वाले छात्र

- सामान्य कोटि.


- अजा/अजजा कोटि.


- स्नातक तक लड़कियां और 12 वीं   कक्षा तक लड़के (मदरसा के छात्रों सहित) घर और स्कूल के बीच (एमएसटी).


-   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.
-   .एमएसटी और क्यूएसटी में 50%

-   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%
-   एमएसटी और क्यूएसटी में 75%

-   निशुल्क द्वितीय श्रेणी एमएसटी.
27 वर्ष में एक बार अध्ययन दौरे के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में सरकारी स्कूलों के छात्र. -   दूसरे दर्जे में 75%.
28 ्रवेश परीक्षा – मेडिकल, इंजीनियरी आदि प्रवेश परीक्षा हेतु राष्ट्रीय स्तर के लिए ग्रामीण क्षेत्रों की सरकारी स्कूलों की लड़कियां. -   दूसरे दर्जे में 75%.s
29 संघ लोक सेवा आयोग एवं केन्द्रीय चयन आयोगों द्वारा संचालित मुख्य लिखित परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों को रियायत. -   दूसरे दर्जे में 50%.
30 भारत सरकार द्वारा आयोजित शिविरों, संगोष्ठियों में शामिल होने के लिए और छुट्टियों के दौरान ऐतिहासिक और अन्य महत्वपूर्ण स्थानों के भ्रमण के लिए भी यात्रा करने वाले भारत में अध्ययनरत विदेशी छात्र. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.
31 अनुसंधान कार्य के संबंध में यात्राओं के लिए 35 वर्ष तक की आयु के अनुसंधान स्कॉलर. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.
32 निर्माण शिविरों में भागीदारी करने वाले छात्र और गैर-छात्र. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 25%.
33 गृह और प्रशिक्षण समुद्री जहाज के बीच यात्रा के लिए – मर्कंटाइल मेरीन के लिए नेवीगेशनल/इंजीनियरिंग प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे कैडेट और  मेरीन इंजीनियर प्रशिक्षु. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.
VII युवा
34 (क) राष्ट्रीय युवा परियोजना

(ख) मानव उत्थान सेवा समिति,

के राष्ट्रीय एकता शिविरों में भाग लेने वाले युवा.


-   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.

-   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 40%.
35 बेरोजगार युवा

(i)        सार्वजनिक क्षेत्र (केन्द्रीय/राज्य सरकार के कार्यालय, सांविधिक निकाय, नगर निगम, सरकारी उपक्रम, विश्वविद्यालय या सार्वजनिक क्षेत्र निकाय) के संगठनों में नौकरी के लिए साक्षात्कार में भाग लेने हेतु.

(ii)      केन्द्र/राज्य सरकार में नौकरी के लिए साक्षात्कार में भाग लेने हेतु.


- द्वितीय और शयनयान श्रेणी में      50%.

- द्वितीय  श्रेणी में 100%  शयनयान श्रेणी में 50%.
36 स्काउटिंग ड्यूटी के लिए भारत स्काउट एवं गाइड्स. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.
VIII किसान
37 कृषि/औद्योगिक प्रदर्शनियों में जाने के लिए किसान और औद्योगिक श्रमिक. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 25%.
38 सरकार द्वारा प्रायोजित विशेष गाड़ियों में यात्रा करने वाले किसान -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 33%.
39 बेहतर फार्मिंग/डेयरी अध्ययन/ प्रशिक्षण के लिए राष्ट्रीय स्तर के संस्थानों का दौरा करने के लिए किसान एवं दुग्ध उत्पादक -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.
40 (i) भारत कृषक समाज, और
(ii) सर्वोदय समाज, वर्धा,
के वार्षिक सम्मेलनों में भाग लेने वाले प्रतिनिधि
-   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 50%.
IX कलाकार और खिलाड़ी
41 कलाकार – परफ़ार्मेंस के लिए -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.

-   प्रथम श्रेणी, वातानुकूल कुर्सीयान, 3 एसी, 2एसी में 50%.

-   राजधानी/शताब्दी/जन शताब्दी, वातानुकूल कुर्सीयान, 3 एसी और 2 एसी गाड़ियों में 50%
42 फिल्म तकनीशियन – फिल्म निर्माण से संबंधित कार्य के लिए यात्रा करने हेतु. -   शयनयान श्रेणी में 75%.

-   प्रथम श्रेणी, वातानुकूल कुर्सीयान, 3 एसी, 2 एसी में 50%.

-   राजधानी/शताब्दी सहित.
43 (i)  अखिल भारतीय और राज्य     टूर्नामेंट.
(ii) राष्ट्रीय टूर्नामेंट,


में भागीदारी करने वाले खिलाड़ी.

-   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.
-   प्रथम श्रेणी में 50%.

-   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.
-   प्रथम श्रेणी में 50%.
44 आईएमएफ द्वारा आयोजित पर्वतारोहण अभियान में भाग लेने वाले व्यक्ति -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 75%.
-   प्रथम श्रेणी में 50%.
45 प्रेस संबंधी कार्य के लिए केन्द्र एवं राज्य सरकार/संघ शासित क्षेत्र/जिलों के प्रधान कार्यालयों के मान्यताप्राप्त प्रेस संवाददाता

पति/पत्नी/साथी/आश्रित बच्चे (18 वर्ष तक).
-   सभी श्रेणियों में और राजधानी/शताब्दी/जन शताब्दी गाड़ियों के कुल किरायों में 50%.

-   प्रत्येक वित्त वर्ष में दो बार 50% रियायत
X चिकित्सा व्यावसायी
46 किसी भी प्रयोजन के लिए यात्रा करने वाले एलोपैथिक डॉक्टर. -   सभी श्रेणियों में और राजधानी/ शताब्दी/जन शताब्दी गाड़ियों में 10%.
47 छुट्टी और ड्यूटी के लिए – नर्स एवं मिडवाईफ -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 25%.
XI अन्य (कॉन्फ्रेंस, कैंप, दौरे आदि)
48 सामाजिक/सांस्कृतिक/शैक्षणिक महत्व के कतिपय ऑल इंडिया निकायों की वार्षिक कॉन्फ्रेंस में भाग लेने के लिए प्रतिनिधि -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 25%.
49 शिविर/बैठक/रैली/ट्रैकिंग कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए भारत सेवा दल बैंगलुरू. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 25%.
50 समाज सेवा के लिए सर्विस सिविल इंटरनेशनल के स्वयंसेवक. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 25%.
51 शैक्षणिक दौरों के लिए प्राथमिक, माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्कूलों के अध्यापक. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 25%.
52 एंबुलेंस शिविरों/प्रतियोगिताओँ के लिए सेंट जॉन एंबुलेंस ब्रिगेड और रिलीफ वेलफेयर एंबुलेंस कोर, कोलकाता, के सदस्य. -   द्वितीय और शयनयान श्रेणी में 25%.
XII इज्जत एमएसटी
53 असंगठित क्षेत्रों में कार्य करने वाले 1,500/- रुपए से अनधिक मासिक आय वाले व्यक्तियों के लिए अधिकतम 100 कि.मी. की यात्रा के लिए इज्जत एमएसटी -   25/- रुपए.





रियायत देने के लिए विस्तृत नियम, प्रकियाएं, पात्रता, उद्देश्य आदि का आईआरसीए कोचिंग टैरिफ, भाग-I (खंड II) में विभिन्न क्रमांकों के अंतर्गत उल्लेख है, जिसे सामान्य सचिव, आईआरसीए, चैम्सफोर्ड रोड, नई दिल्ली से खरीदा जा सकता है.  किसी शिकायत अथवा स्पष्टीकरण के लिए संबंधित क्षेत्रीय रेलवे के महाप्रबंधक अथवा मुख्य वाणिज्य प्रबंधक से संपर्क किया जाना चाहिए. उपर्युक्त उल्लिखित किराया सूची के संदर्भ में रियायत के महत्वपूर्ण सामान्य नियम इस प्रकार हैं :

1. (क) समस्त रियायती किरायों की गणना गाड़ी के प्रकार के बजाय अर्थात् मेल अथवा एक्सप्रेस अथवा यात्री गाड़ी, जिससे यात्री अपनी यात्रा करता है, मेल/एक्सप्रेस गाड़ियों के किरायों के आधार पर की जाएगी.

(ख) किसी ऐसी यात्रा के लिए रियायत नहीं दी जाएगी, जिसकी लागत केंद्रीय अथवा राज्य सरकार अथवा किसी स्थानीय प्राधिकरण अथवा किसी संवैधानिक निकाय अथवा किसी नगर निगम अथवा किसी सरकारी उपक्रम अथवा किसी विश्वविद्यालय द्वारा वहन की जाती है. 
तथापि, किसी विद्यालय या विश्विद्यालयों द्वारा आयोजित अथवा मान्यताप्राप्त टूर्नामेंटों में भाग लेने वाले विद्यार्थियों को रियायत दी जाएगी.

(ग) रियायत  केवल मूल किराये पर दी जाएगी. अन्य प्रभारों, जैसे सुपरफास्ट प्रभार आरक्षण शुल्क आदि पर कोई रियायत नहीं दी जाएगी. तथापि, जिन मामलो में राजधानी/शताब्दी/जनशताब्दी गाड़ियों में रियायत दी गई हो, इन गाड़ियों में वह रियायत कुल प्रभारों (खानपान सहित) पर देय होगी.

रेल मंत्रालय ने विनिश्चय किया है कि “रियायत, जहाँ कहीं ग्राह्य हो और बच्चों का किराया, राजधानी/शताब्दी/जन शताब्दी/दुरोंतो एक्सप्रेस गाड़ियों के मामले में अन्य मेल/एक्सप्रेस गाड़ियों की तरह केवल मूल किराए में ही प्रदान किया जाए और सभी अन्य प्रभार (खान-पान प्रभार, आरक्षण प्रभार, अनुपूरक प्रभार जैसे सुपरफास्ट अधिभार, परिवर्द्धित आरक्षण प्रभार, कर (यदि कोई हो)) पूरे वसूल किए जाएंगे”.

ये परिवर्तन 01.04.2013 से यात्रा के लिए खरीदी गई टिकटों पर लागू होंगे (रेलवे बोर्ड का दिनाँक 26.10.2012 का परिपत्र सं. टीसी 2/2941/11/नीति के अनुसार).

(घ) रियायत न्यूनतम 300 कि.मी. की दूरी तक देय होगी, केवल विद्यार्थियों, नेत्रहीनों, शारीरिक रूप से विकलांग/पक्षाघात से पीड़ित व्यक्तियों, तपेदिक और कैंसर के रोगियों, गैर-संक्रमित कुष्ठ रोगियों, मानसिक रूप से विक्षिप्त रोगियों, हृदय, हेमोफिलिया रोगियों, युद्ध विधवाओं, भारतीय शांति सेना के सैनिकों की विधवाओं, आपरेश विजय 1999 (करगिल) के शहीदों की विधवाओं, आतंकवादियों और उग्रवादियों के विरुद्ध कार्रवाई में मृत सैनिकों की विधवाओं राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त शिक्षकों, श्रम पुरस्कार से सम्मानित औद्योगिक कर्मियों, आतंकवादियों और उग्रवादियों के विरुद्ध कार्रवाई में मृत पुलिसवालों की विधवाओं, वरिष्ठ नागरिकों, एलोपैथिक डाक्टरों, राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार प्राप्त बच्चों के साथ यात्रा करने वाले माता-पिताओं, पुलिस मैडल विजेताओं, द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेता कोचों, खिलाड़ियों, नौकरी के लिए साक्षात्कार पर जाने वाले बेरोजगार युवकों और उनके एस्कोर्ट्स के मामले में,  इन नियमों में जहां कहीं लागू हो,  उपर्युक्त उल्लिखित दूरी प्रतिबंध लागू नहीं होंगे. तथापि, आम जनता के लिए प्रत्येक गाड़ी में यात्रा के लिए लागू दूरी प्रतिबंध, रियायती टिकट जारी करने के मामले में भी लागू होंगे. 

2. यात्री की इच्छानुसार, एक समय में केवल एक प्रकार की रियायत देय होगी और एक व्यक्ति को एक साथ दो अथवा अधिक रियायतें नहीं दी जाएंगी.

3. (क) किसी विशेष उद्देश्य से की जाने वाली यात्रा, अर्थात् जहां कोई विद्यार्थी परीक्षा केंद्र तक आने/जाने, एक कैंसर रोगी अस्पताल तक आने/जाने,  एक प्रोफेसर किसी कांफ्रेंस में आने/जाने के लिए रियायती टिकट पर यात्रा करता है,  तो उसे मार्ग में यात्रा-विराम की अनुमति नहीं दी जाएगी.यह अनुमति केवल वहीं होगी, जहां यात्रा-विराम स्वतः बनता हो. 

(ख) यात्रा-विराम करने वाले यात्रियों को यात्रा-विराम वाले स्टेशन के स्टेशन मास्टर से अपने टिकट पर पृष्टांकन करना होगा. 

(ग) अपनी यात्रा मार्ग में ही समाप्त करने वाले यात्रियों को यात्रा समाप्ति वाले स्टेशन पर अपनी टिकट सरेंडर करनी चाहिए.  ऐसी टिकटों के यात्रा न किए गए भाग के किराये का रिफंड नहीं दिया जाएगा. 

4. वरिष्ठ नागरिकों को छोड़कर, भारतीय रेलवे पर रियायत के लिए अपेक्षित प्रमाण-पत्र दिखाने होंगे, जो भारत में ही संबंधित व्यक्ति/संगठन द्वारा जारी किए होंगे और विदेश में व्यक्ति/संगठन द्वारा जारी किए गए दस्तावेज रियायत के ले मान्य नहीं होंगे. 

5. वरिष्ठ नागरिकों के मामले में, टिकट खरीदते समय किसी प्रकार के आयु प्रमाण-पत्र दिखाने की आवश्यकता नहीं है. रियायती टिकटें मांग करने पर जारी की जाती हैं जिसके लिए आरक्षण फार्म में विकल्प दिया गया है. तथापि, उन्हें यात्रा के दौरान अपनी आयु के प्रमाण के लिए कोई दस्तावेज साथ रखना चाहिए, जिसमें उनकी आयु, जन्म तिथि का प्रमाण हो और रेलवे अधिकारी के मांगे जाने पर उक्त दस्तावेज प्रस्तुत किया जाना चाहिए. इस उद्दश्य के लिए किसी सरकारी संस्थान/ एजेंसी/ स्थानीय निकाय, द्वारा जारी कोई दस्तावेज जैसे परिचय पत्र, राशन कार्ड, चालक लाइसेंस, पासपोर्ट, शैक्षणिक प्रमाण-पत्र, किसी पंचायत/ निगम/नगरनिगम से जारी प्रमाण-पत्र अथवा अन्य कोई प्रामाणिक एवं मान्यता प्राप्त दस्तावेज स्वीकार किया जाता है. विदेश से जारी पासपोर्ट भी वैध होता है.

6. रियायती टिकटधारक अपनी वास्तविक टिकट के किराये के अंतर का भुगतान करके भी उच्च श्रेणी में टिकट नहीं ले सकता. तथापि, प्रथम श्रेणी में रियायत के लिए पात्र व्यक्ति (और वाता. 2-टीयर में नहीं) प्रथम श्रेणी रियायती किराये का भुगतान करके और साथ ही वाता. 2-टीयर स्लीपर एवं प्रथम श्रेणी के वास्तविक किरायों के अंतर का भुगतान करके वाता. 2-टीयर स्लीपर   के लिए टिकट खरीद सकता है.  

7. इसे अन्यथा विशेष व्यवस्था समझे,  सीजन टिकटों, सर्कुलर यात्रा टिकटों और प्रतिष्ठित गाड़ियों जैसे राजधानी एक्सप्रेस, शताब्दी एक्सप्रेस आदि, जिनकी किराया संरचना में सभी सुविधाओं सहित किराया शामिल होता है,  की टिकटों पर रियायत देय नहीं है.  एक्सप्रेस गाड़ियों में यात्री को रियायत दी जाती है.

8. जहां कहीं, दो या दो से अधिक व्यक्तियों के लिए रियायती इकहरी/वापसी यात्रा टिकट अथवा सीजन टिकट अथवा सर्कुलर यात्रा टिकट जारी किए जाते हैं, प्रत्येक व्यक्ति के लिए  रियायती किराये की गणना अलग से की जाएगी.

9. सभी प्रकार की रियायतें केवल स्टेशनों/आरक्षण कार्यालयों/बुकिंग कार्यालयों के काउंटरों से प्रदान की जाती हैं. यदि कोई व्यक्ति बिना टिकट अथवा बिना उचित टिकट लिए गाड़ी में चढ़ता है अथवा रियायती टिकट पर यात्रा का विस्तार करता है अथवा रियायती टिकट को उच्च श्रेणी में बदलता है, तो उसे गाड़ी में किसी प्रकार की रियायत नहीं दी जाएगी, भले ही वह अन्यथा इन नियमों के अंतर्गत रियायत का पात्र हो.





(1) (क) मार्गस्थ स्टेशन पर यात्रा-विराम की अनुमति केवल उस इकहरी यात्रा टिकट पर दी जाती है, जो 500 कि.मी. से अधिक की यात्रा के लिए हो. प्रारंभिक स्टेशन से 500 कि.मी. से पहले तक प्रथम यात्रा विराम देय नहीं होगा.  1000 कि.मी. तक यात्रा की टिकटों पर केवल एक यात्रा-विराम की अनुमति होगी और इससे लंबी दूरी की यात्राओं के लिए अधिकतम दो यात्रा-विरामों की अनुमति होगी. एक स्टेशन पर यात्रा-विराम की अवधि अधिकतम केवल 2 दिन तक की होगी, जिसमें उस स्टेशन पर आगमन और प्रस्थान के दिन शामिल नहीं होंगे. सभी वापसी यात्रा टिकटों के लिए टिकटों का प्रत्येक आधा भाग इकहरी यात्रा टिकट माना जाएगा.

1. 800 कि.मी. के लिए इकहरी यात्रा टिकटधारक  एक यात्री 423 कि.मी. पर यात्रा-विराम चाहता है. अनुमति नहीं है.
2. 600 कि.मी. के लिए इकहरी यात्रा टिकटधारक  एक यात्री 501 कि.मी. पर यात्रा-विराम चाहता है. अधिकतम 2 दिन के लिए अनुमति  है.
3. 1050 कि.मी. के लिए इकहरी यात्रा टिकटधारक  एक यात्री 400 और 801 कि.मी. पर यात्रा-विराम चाहता है. अधिकतम 2 दिन के लिए 801 कि.मी. पर केवल एक यात्रा-विराम की अनुमति है.
4. 2000 कि.मी. के लिए इकहरी यात्रा टिकटधारक  एक यात्री 800, 905 और 1505 कि.मी. पर यात्रा-विराम चाहता है. यात्री की इच्छानुसार प्रत्येक यात्रा विराम स्थल पर अधिकतम 2 दिन के लिए  दो यात्रा-विरामों का अनुमति है.

(ख) जब कोई थ्रू यात्री मार्ग में कोई कनेक्टिंग गाड़ी पकड़ने के लिए किसी स्टेशन पर उतरता है तो उसे यात्रा विराम नहीं माना जाना चाहिए, बशर्ते यह ठहराव 24 घंटे से कम होना चाहिए. उदाहरण के लिए किसी यात्री के पास पुणे से जम्मूतवी बरास्ता दादर का सीधा टिकट है, वह एक दिन पहले किसी दिन की गाड़ी से पुणे से मुंबई की यात्रा करता है, ताकि वह अगली सुबह 6.25 बजे मुंबई से मुंबई-जम्मू तवी एक्सप्रेस गाड़ी पकड़ सके, तो इसे यात्रा विराम नहीं माना जाएगा.                                                                        
नोट: राजधानी एक्सप्रेस, शताब्दी एक्सप्रेस जैसी गाड़ियों की टिकटों पर यात्रा विराम की अनुमति नहीं है, जिनका स्थल-से-स्थल आधार पर अपनी किराया संरचना है और इसलिए, इस प्रकार की आंशिक रूप से प्रयुक्त टिकटों पर रिफंड की अनुमति भी नहीं है. 

(2) जहां यात्रा को विराम दिया गया हो, यात्री को उस स्टेशन पर अपनी टिकटों पर पृष्ठाकंन करवा लेना चाहिए. पृष्ठाकंन में स्टेशन का कोड, स्टेशन मास्टर के अधोहस्ताक्षर और तारीख होनी चाहिए.
नोट : यदि यात्री यात्रा-विराम करता है और निर्धारित पृष्ठाकंन नहीं करवाता है तो उसे बिना उचित टिकट लिए यात्रा करना माना जाएगा और तदनुसार कार्रवाई की जाएगी.  .

(3) यदि यात्री उपर्युक्त पैरा (1) में उल्लेख के अलावा मार्ग में यात्रा-विराम करता है, तो उसे यात्रा-विराम वाले स्टेशन पर टिकट अवश्य सरेंडर करने चाहिए और बदले में टिकट जमा रसीद (TDR) ले लेनी चाहिए. उसके बाद, उसे उक्त टिकट के यात्रा न किए गए भाग के रिफंड के लिए टिकट जमा रसीद पर दिए गए निर्देशानुसार कार्यवाही करनी चाहिए.

(4)  जिस स्टेशन तक आरक्षण कराया गया हो, उससे पहले यात्रा विराम की अनुमति नहीं दी जाएगी. यदि टिकट आरक्षित कराने वाला कोई यात्री मार्ग में यात्रा-विराम चाहता है तो उसे आरक्षण मांग-पत्र पर यात्रा-विराम वाले स्टेशन का नाम स्पष्ट रूप से दे देना चाहिए. 





(1) यात्रा विराम संबंधी सामान्य नियम उन सर्कुलर यात्रा टिकटों पर लागू नहीं होंगे, जो समान स्टेशन से शुरु होकर वहीं समाप्त होती हों. सबसे छोटे मार्ग पर वापसी यात्रा अथवा छोटे मार्ग की तुलना में उससे 15% लंबे मार्ग को इस उद्देश्य से सर्कुलर यात्रा नहीं माना जाएगा.  सर्कुलर यात्रा टिकटें सभी श्रेणियों के लिए जारी की जा सकती हैं. सर्कुल&##2352; यात्रा टिकट जारी करने से पहले, यात्री को अधिकतम उन आठ स्टेशनों (प्रारंभिक/गंतव्य स्टेशन छोड़कर) के नाम देने को कहा जाना चाहिए, जहां वह यात्रा-विराम चाहता है.  

(2) वैधता अवधि :
टिकट की वैधता अवधि की गणना यात्रा के दिनों और यात्रा- विराम के दिनों के अनुसार की जाएगी - यात्रा दिवस की गणना में 400 कि.मी. की दूरी अथवा उसके भाग  को 1 दिन माना जाता है और यात्रा विराम दिनों की गणना में प्रति 200 कि.मी. को 1 दिन माना जाता है. टिकट पर दी गई यात्रा की तारीख से टिकट वैध माना जाएगा. यात्रा-विराम आरंभ करने के लिए कोई प्रतिबंध नहीं होगा. यात्रा आरंभ होने की तारीख को यात्री को टिकट पर अपने हस्ताक्षर करके तारीख भी डालनी होगी.  

(3) यात्रा विराम :
सर्कुलर यात्रा टिकट  पर अधिकतम आठ यात्रा-विरामों की अनुमति होगी.  सर्कुलर यात्रा टिकटों पर यात्रा-विराम संबंधी पृष्ठांकन की आवश्यकता नहीं होती है.

(4) सर्कुलर यात्रा टिकट का किराया :
सर्कुलर यात्रा टिकट पर दो इकहरी यात्रा प्रभार लिए जाएंगे, प्रत्येक यात्रा कुल दूरी का आधा भाग माना जाएगा. यात्रा के विभिन्न चरणों के लिए आरक्षण प्रभार, सुपरफास्ट के लिए सप्लीमेंट्री प्रभार आदि अलग से वसूले जाएंगे. यदि कोई यात्री उच्च श्रेणी अथवा  उच्च श्रेणी वाली गाड़ियों में यात्रा करना चाहता है, तो उसे दूरी के अनुसार स्थल-से-स्थल आधार पर किराये के अंतर का भुगतान करना होगा.  





1. (i) सीजन टिकट जारी करने के संबंध में नियम, दरें और अन्य विवरण संबंधित रेलवे को आवेदन करके प्राप्त किए जा सकते हैं.  सीजन टिकट उपनगरीय और गैर-उपनगरीय दोनों सेक्शनों के लिए जारी किए जाते हैं.  द्वितीय श्रेणी मासिक सीजन टिकट का किराया सभी दूरियों के लिए एकसमान  द्वितीय श्रेणी (साधारण) द्वारा की जाने वाली 15 इकहरी यात्राओं के बराबर होता है.  प्रथम श्रेणी मासिक सीजन टिकट का किराया द्वितीय श्रेणी मासिक सीजन टिकट किराये से चार गुना होता है.  बच्चो के लिए सीजन टिकट वयस्क सीजन टिकट किराये से आधे किराये पर जारी किए जाते हैं.  त्रैमासिक सीजन टिकटसामान्य वयस्क/बच्चे के मासिक सीजन टिकट किराये से 2.7 गुना प्रभार लेकर बनाए जाते हैं. केवलप्रथम और द्वितीय श्रेणियों के लिए सीजन टिकटों जारी के जाते हैं और ये टिकट केवल उन्हीं श्रेणियों में वैध होते हैं, जिनके लिए ये जारी किए गए हों.  एक यात्री को  केवल एक सीजन टिकट जारी किया जाता है, ताकि वह अपने निवास से कार्यस्थल/अध्ययन स्थल वाले स्टेशनों के बीच यात्रा कर सके.  यदि दूरी सीमा के विपरीत यात्री के पास एक से अधिक सीजन टिकट पाए जाते हैं, तो अतिरिक्त  सीजन टिकट अवैध माना जाएगा.  प्रथम श्रेणी सीजन टिकटधारकों को वाता. कोचों में यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी. ऐसे विशेष स्टेशनों पर जहां प्रथम श्रेणी सीजन टिकटों की पर्याप्त मांग हो, और प्रथम श्रेणी कुर्सीयान कोच लगाना संभव न हो, तो क्षेत्रीय रेलवे प्रथम श्रेणी सीजन टिकटधारकों के लिए, यदि उपलब्ध हो, तो वाता. कुर्सीयान कोच लगा सकती हैं. उन सेक्शनों पर जहां, प्रथम श्रेणी की कोई सेवा उपलब्ध न हो, प्रथम श्रेणी सीजन टिकट बिल्कुल जारी नहीं किएओ जाते.

(ii) दूरी :
सीजन टिकट केवल 150 कि.मी. की दूरी तक के लिए जारी किए जाते हैं. 150 कि.मी. की दूरी से अधिक के लिए केवल उन सेक्शनों पर सीजन टिकट जारी किए जाते हैं, जहां से 1951 से पहले जारी किए जाते थे (उन सेक्शनों के सिवाय जहां मांग की कमी होने के कारण यह सुविधा वापस ले ली गई थी).

(iii) परिचय पत्र :
प्रत्येक सीजन टिकटधारक को 1 रु. के मामूली मूल्य पर प्लास्टिक कवर के साथ फोटो परिचय पत्र जारी किया जाता है.  परिचय पत्र  5 वर्ष के लिए अथवा खराब हो जाने/मुड़-तुड़ जाने तक, इनमें से जो भी पहले हो, जारी किया जाएगा. कार्ड नंबर के साथ परिचय पत्र पर धारक का नाम, पता, आयु, लिंग और हस्ताक्षर होंगे. सीजन टिकट पर परिचय पत्र संख्या अवश्य लिखी जानी चाहिए. यात्री के लिए आवश्यक है कि वह सीजन टिकट के साथ परिचय पत्र भी प्रस्तुत करे अन्यथा  सीजन टिकट अवैध माना जाएगा और  यात्री को बिना टिकट माना जाएगा.यह भी आवश्यक है कि यात्री के विवरण परिचय पत्र पर उचित और सही रूप में लिखे जाएं और उस पर फोटो सही तरह से चिपकाया जाए. बुकिंग क्लर्क को स्टेशन की मोहर इस प्रकार लगानी चाहिए कि आधी मोहर फोटो पर और आधी परिचय पत्र पर लग जाए.

उपर्युक्त के अलावा, सीजन टिकट जारी करने अथवा उनके नवीनीकरण के लिए भारत सरकार अथवा भारत में किसी सरकारी एजेंसी द्वारा जारी परिचय पत्र, पैन-कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर परिचय पत्र और क्रेडिट कार्ड भी साक्ष्य के तौर पर स्वीकार किए जाएंगे. ऐसे दस्तावेजों के क्रमांक सीजन टिकट पर लिखे जाने चाहिए. यात्रा के दौरान यात्री को सीजन टिकट के साथ उक्त दस्तावेज साथ रखना होगा, जिसके बिना सीजन टिकट अवैध होगा और यात्री को बिना टिकट माना जाएगा.  

(iv) वैधता :
सीजन टिकट आरक्षित कोचों और गाड़ियों में यात्रा के लिए वैध नहीं होते. ये केवल पैसेंजर गाड़ियों में यात्रा के लिए वैध होते हैं. मेल/ एक्सप्रेस/सुपरफास्ट गाड़ियों के मामले में, ये केवल उन मेल/एक्सप्रेस/ सुपरफास्ट गाड़ियों में वैध होते हैं, जहां रेल प्रशासन द्वारा इनकी विशेष अनुमति दी गई हो. तथापि,  किसी गाड़ी विशेष में अन्यथा वैध किए जाने पर, ये दूरी प्रतिबंधों की शर्त पर वैध होते हैं. प्रथम श्रेणी सीजन टिकटधारक, केवल दिन के समय प्रथम श्रेणी कोचों में यात्रा कर सकते हैं, बशर्ते उस संबंधित गाड़ी पर गति प्रतिबंध लागू हों.

(v) नवीनीकरण :
सीजन टिकट अपनी समाप्ति की तारीख से 10 दिन पहले नवीनीकृत कराए जा सकते हैं. ऐसे मामलों में, ये केवल समाप्ति की तारीख के बाद से वैध होंगे, नवीनीकरण की तारीख से नहीं.  

(vi) सुपरफास्ट सरचार्ज टिकट :
जहां कहीं रेल प्रशासन द्वारा अनुमति दी जाए, यात्री सुपरफास्ट गाड़ियों के अनारक्षित कोचों में भी यात्रा कर सकता है. ऐसे मामलों में, प्रत्येक यात्रा के लिए उसे अग्रिम रूप से सुपरफास्ट सरचार्ज टिकट खरीदना होगा. नियमित रूप से सुपरफास्ट गाड़ियों में यात्रा करना चाहने वाले यात्रियों को रेल प्रशासन मांग करने पर मासिक/त्रैमासिक सुपरफास्ट सरचार्ज टिकट जारी कर सकता है. हालांकि, ऐसी सुपरफास्ट गाड़ियों में यात्रा करने वाले सीजन टिकटधारकों पर सुपरफास्ट सरचार्ज नहीं लगाया जाएगा, जिसकी प्रारंभिक से गंतव्य स्टेशन के बीच कुल यात्रा दूरी 325 कि.मी. से कम होगी.

(vii) रिफंड :
अप्रयुक्त अथवा आंशिक रूप से प्रयुक्त सीजन टिकटों पर किन्हीं भी परिस्थितियों में रिफंड देय नहीं है.  

2. विद्यार्थियों को सीजन टिकटों  :
विद्यार्थियों को अधिकतम 150 कि.मी. तक दूरी के लिए प्रथम एवं द्वितीय श्रेणी के सीजन टिकट जारी किए जाते हैं. विद्यार्थी मासिक सीजन टिकटों के लिए सामान्य वयस्क सीजन टिकट किराया का आधा और विद्यार्थी त्रैमासिक सीजन टिकटों विद्यार्थी मासिक सीजन टिकट का 2.7 गुना प्रभार लिया जाएगा. आईआरसीए कोचिंग टैरिफ सं. 25 भाग-1 (खंड-2) की क्र.सं. 4 और 4 (ग) के अंतर्गत मान्यताप्रफ्ता संस्थानों के विद्यार्थियों को ये मासिक सीजन टिकट/त्रैमासिक सीजन टिकट न्यूनतम प्रभार वसूले बिना जारी किए जाएंगे, बशर्तें वे सामान्य कोटि के विद्यार्थी 25 वर्ष से अधिक आयु के न हों, अनु.जाति/अ.ज.जा. के मामले में 27 वर्ष और रिसर्च स्कॉलर्स के मामले में उनकी आयु 35 वर्ष से अधिक न हो.  

नोट : अनु.जाति/अ.ज.जा. के विद्यार्थियों सीजन टिकट निम्नानुसार जारी किए जाएंगे: -
(i) मासिक सीजन टिकट : सामान्य विद्यार्थी मासिक सीजन टिकट किराये का 50% भुगतान करने पर, और
(ii) त्रैमासिक सीजन टिकट: उपर्युक्त i) के अनुसार मासिक सीजन टिकट के रियायती किराये का 2.7 गुना भुगतान करने पर.

3. विद्यार्थियों को निःशुल्क मासिक सीजन टिकट:
10वीं कक्षा तक के बालकों और 12वीं कक्षा तक की बालिकाओं को उनके निवास और स्कूल के बीच स्टेशनों तक जाने/आने के लिए  निःशुल्क मासिक सीजन टिकट (मासिक सीजन टिकट) की सुविधा जी जाती है. वे रेलवे द्वारा मिलेनियम गिफ्ट संदेश अपने साथ लेकर चलते हैं. ये निःशुल्क मासिक सीजन टिकट निम्नलिखित शर्तों पर जारी किए जाते हैं : -

(1) केवल मासिक सीजन टिकट जारी के जाते हैं, त्रैमासिक सीजन टिकट नहीं.  

(2) रियायती विद्यार्थी मासिक सीजन टिकट के मामले में, ये भी अधिकतम of 150 कि.मी. तक की दूरी के ले जारी किए जाते हैं.

(3) ये केवल द्वितीय श्रेणी के लिए जारी के जाते हैं और सुपरफास्ट गाड़ी सहित किसी मेल/एक्सप्रेस गाड़ी में यात्रा करने के लिए वैध नहीं होते.

(4) इन मासिक सीजन टिकटों पर कोई अन्य सरचार्ज नहीं लगाया जाता (यहां तक कि मध्य/पश्चिम रेलवे पर इन पर  सिडको सरचार्ज भी लागू नहीं होंगे, जो मुंबई क्षेत्र के विशेष सेक्शनों पर यात्रा के लिए वसूला जाता है).

(5)निःशुल्क मासिक सीजन टिकटों के लिए वही शर्तें लागू हैं, जो विद्यार्थियों के लिए रियायती मासिक सीजन टिकटों के संबंध में लागू हैं. 

(6) रियायती विद्यार्थी मासिक/त्रैमासिक सीजन टिकट नियमानुसार मांग किए जाने पर जारी किए जाते रहेंगे.






(1) यदि किसी गाड़ी की औसत गति, अप और डाउन दोनों दिशाओं में,  न्यूनतम ब.ला. पर 55 कि.मी.प्र.घं.  और मी.ला. पर 45 कि.मी.प्र.घं.  हो,  तो सुपरफास्ट सरचार्ज लगाए जाने के उद्देश्य से उसे सुपरफास्ट गाड़ी माना जाता है. औसत गति की गणना के लिए कुल यात्रा समय को दोनों ओर के बीच की दूरी से भाग किया जाता है.  

(2) (i) सुपरफास्ट सरचार्ज की दर इस प्रकार हैं :


श्रेणी सुपरफास्ट सरचार्ज (रु.)
द्वितीय 8
स्लीपर 20
वाता. कुर्सीयान 30
वाता. 3-टीयर 30
प्रथम 30
वाता. 2-टीयर 30
वाता. प्रथम 50

(ii) मासिक एवं त्रैमासिक सुपरफास्ट सरचार्ज टिकटों के प्रभार (सीजन टिकटधारकों के लिए),  इस प्रकार हैं :

श्रेणी मासिक सुपरफास्ट सरचार्ज टिकट त्रैमासिक सुपरफास्ट सरचार्ज टिकट
द्वितीय रु. 150/- रु. 450/-
प्रथम

प्रथम श्रेणी में 15 इकहरी यात्राओं के लिए सुपरफास्ट सरचार्ज के समकक्ष

प्रथम श्रेणी में 45  इकहरी यात्राओं के लिए सुपरफास्ट सरचार्ज के समकक्ष






(1)  यात्रा का पोस्टपोनमेंट  :
(क) कंफर्म टिकट :
कंफर्म टिकटों पर यात्रा के पोस्टपोनमेंट की अनुमति समान अथवा उच्च श्रेणी में किसी बाद वाली गाड़ी में समान दिन अथवा अगले दिन यात्रा करने के लिए दी जाएगी, जो समान अथवा किसी लंबी दूरी के गंतव्य के लिए होगी, बशर्ते :

(i) जिस गाड़ी में नया आरक्षण मांगा गया हो, उसमें कंफर्म अथवा आरएसी अथवा प्रतीक्षासूची स्थान उपलब्ध हो;

(ii) यदि कार्यघंटों के दौरान और मूल रूप से बुक टिकट की गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान समय से चार घंटे पहले तक टिकटें सरेंडर की जाती हों, तो जिस श्रेणी में नया आरक्षण मांगा गया हो, उसका अपेक्षित आरक्षण शुल्क अदा करना होगा;

(iii) यदि कार्यघंटों के दौरान और मूल रूप से बुक टिकट की गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान समय से चार घंटे पहले और चौबीस घंटे के भीतर तक टिकटें सरेंडर की जाती हों, पहले से बुक टिकट का 25% किराया रद्दकरण प्रभार के रूप में काटा जाता है;

(iv)  यदि कार्यघंटों के दौरान और मूल रूप से बुक टिकट की गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान समय से चार घंटे पहले तक और रिफंड नियमों के नियम 6(i)(ग) में निर्धारित अधिकतम समय-सीमा अर्थात् मूल रूप से बुक टिकट की गाड़ी के वास्तविक प्रस्थान के बाद टिकटें सरेंडर की जाती हों, तो पहले से बुक टिकट का 50% किराया रद्दकरण प्रभार के रूप में काटा जाता है. 

(ख)आरएसी और प्रतीक्षासूची टिकट :
आरएसी और प्रतीक्षासूची टिकटों पर यात्रा की पोस्टपोनमेंट की अनुमति समान अथवा उच्च श्रेणी में किसी बाद वाली गाड़ी में समान दिन अथवा अगले दिन यात्रा करने के लिए दी जाएगी, जो समान अथवा किसी लंबी दूरी#2368; के गंतव्य के लिए होगी, बशर्ते : 

(i) जिस गाड़ी में नया आरक्षण मांगा गया हो, उसमें कंफर्म अथवा आरएसी अथवा प्रतीक्षासूची स्थान उपलब्ध हो;

(ii) यदि कार्यघंटों के दौरान और मूल रूप से बुक टिकट की गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान समय से चार घंटे पहले तक और रिफंड नियमों के नियम 6(i)(ग) में निर्धारित अधिकतम समय-सीमा अर्थात् मूल रूप से बुक टिकट की गाड़ी के वास्तविक प्रस्थान के बाद टिकटें सरेंडर की जाती हों;

(iii) क्लर्केज प्रभार का भुगतान किया जाता हो.

(2)   यात्रा का प्रीपोनमेंट :
कंफर्म, आरएसी और प्रतीक्षासूची टिकटों पर यात्रा के प्रीपोनमेंट की अनुमति समान अथवा उच्च श्रेणी में किसी पहले वाली गाड़ी में समान दिन अथवा पहले यात्रा करने के लिए दी जाएगी, जो समान अथवा किसी लंबी दूरी के गंतव्य के लिए होगी, बशर्ते : 

(क) जिस गाड़ी में नया आरक्षण मांगा गया हो, उसमें कंफर्म अथवा आरएसी अथवा प्रतीक्षासूची स्थान उपलब्ध हो;

(ख) कार्यघंटों के दौरान टिकट गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान समय से कम से कम छह घंटे पहले, और जिस गाड़ी का आरक्षण मांगा गया हो उसका चार्ट तैयार होने से पहले, इनमें जो भी बाद में हो,  आरक्षण कार्यालय में सरेंडर की जाती हो;

(ग) कंफर्म टिकटों पर प्रीपोनमेंट के मामले में, जिस श्रेणी के लिए आरक्षण मांगा गया हो, उसका नया आरक्षण शुल्क अदा किया जाता हो;  और

(घ) आरएसी और प्रतीक्षासूची टिकटों पर प्रीपोनमेंट के मामले में, क्लर्केज प्रभार का भुगतान किया जाता हो;

(3) मूल रूप से बुक टिकट और संशोधित यात्रा टिकट के किराये का अंतर, जैसा भी मामला हो,  रिफंड या रिकवर किया जाएगा.

(4) उप-नियम (1) अथवा उप-नियम (2) के अंतर्गत यात्रा के पोस्टपोनमेंट अथवा प्रीपोनमेंट की अनुमति केवल एक बार दी जाएगी.

(5) पैसेंजर गाड़ी टिकट पर यात्रा का पोस्टपोनमेंट अथवा प्रीपोनमेंट तत्काल कोटा, यहां तक कि तत्काल प्रभार अदा करने पर भी, में लागू नहीं होगा. 

(6) यदि वह टिकट, जिस पर यात्रा में परिवर्तन किया गया हो, रद्द कर दी जाती है, तो रिफंड नियमों के उल्लेखानुसार रद्दकरण प्रभारों का भुगतान करना होगा.





यदि कोई उच्च श्रेणी टिकटधारक निचली श्रेणी स्थान पाने के लिए उस श्रेणी में यात्रा करता हो, तो जिस श्रेणी के लिए टिकट जारी की गई थी,  तो रिफंड नियमों के अंतर्गत उसे अदा के गए तथा देय किराये के अंतर का रिफंड किया जाएगा.





(1) (i) यदि खोई हुई, गुम हुई, फटी अथवा मुड़ी-तुड़ी टिकट का स्टेटस आरक्षित अथवा आरएसी हो और आरक्षण चार्ट तैयार होने से पहले डुप्लीकेट टिकट मांगी जाती है, तो स्टेशन मास्टर मूल टिकट के बदले प्रति यात्री क्लर्केज प्रभार वसूल करके एक डुप्लीकेट टिकट जारी करेगा.

(ii) यदि आरक्षण चार्ट तैयार होने के बाद खोई हुई अथवा गुम हुई आरक्षित टिकट के बदले डुप्लीकेट टिकट मांगी जाती है, तो कुल किराये की 50% राशि वसूलकर इसे जारी किया जाएगा. आरक्षण चार्ट तैयार होने के बाद आरएसी टिकटों के लिए डुप्लीकेट टिकट जारी नहीं की जाएंगी.

(iii) यदि आरक्षण चार्ट तैयार होने के बाद फटी अथवा मुड़ी-तुड़ी आरक्षित अथवा आरएसी टिकट के बदले डुप्लीकेट टिकट मांगी जाती है, तो कुल किराये की 25% राशि वसूलकर इसे जारी किया जाएगा.

(2) (i) डुप्लीकेट टिकट जारी करने के लिए वसूले गए प्रभारों को रिफंड नहीं किया जाएगा, सिवाय ऐसे मामलों के जहां डुप्लीकेट टिकट जारी होने के बाद गाड़ी के प्रस्थान से पहले खोई हुई अथवा गुम हुई टिकट डुप्लीकेट टिकट के साथ प्रस्तुत कर जी जाती हों.  डुप्लीकेट टिकट जारी करने के लिए लिए गए प्रभार पांच प्रतिशत राशि काटकर वापस के जाएंगे, बशर्ते न्यूनतम कटौती राशि बीस रु. होगी. यदि यात्रा नहीं की जाती हो, तो रिफंड नियमों के अनुसार रद्दकरण प्रभार मूल टिकट पर वसूले जाएंगे. 

(ii)  यात्री, जिसने अपनी खोई हुई, गुम हुई, फटी अथवा मुड़ी-तुड़ी आरक्षित टिकट अथवा आरएसी टिकट पर अधिक प्रभार अदा किए हों, संबंधित रेलवे के मुख्य वाणिज्य प्रबंधक (वापसी) को  गाड़ी में अदा किए गए उक्त प्रभारों के रिफंड के लिए आवेदन कर सकता है, जो प्रति यात्री किराये की 50% राशि काटकर गाड़ी में लिए गए प्रभारों के रिफंड के लिए अपना निर्णय देगा, बशर्ते किसी और ने मूल टिकट पर पहले रिफंड न लिया हो.





1. इन नियमों को रेल यात्री ( टिकट रद्दकरण और किराये का रिफंड) नियम कहा जाता है.

2. परिभाषाएं :
इन नियमों के अंतर्गत, जब तक संदर्भ अन्यथा अपेक्षित न हो -

(क) क्लर्केज से अभिप्राय उस प्रभार से है, जो रेल प्रशासन द्वारा किरायों की वापसी में किए गए लिपिकीय कार्य से संबंधित होता है;

(ख) गंतव्य स्टेशन से अभिप्राय उस स्टेशन से है, जिसके लिए टिकट जारी किया गया है;

(ग) आरएसी टिकट से अभिप्राय उस टिकट से है,  जिस पर शायिका की मांग के बदले एक आरक्षित की गई हो और यदि कोई रद्दकरण होता हो, तो उसे बाद में शायिका उपलब्ध करा दी जाएगी;

(घ) किराये में मूल किराया, सुपरफास्ट गाड़ियों पर सप्लीमेंट्री प्रभार और आरक्षण शुल्क शामिल होता है;

(च) आरक्षित टिकट से अभिप्राय एक यात्रा टिकट से है जिस पर शायिका अथवा सीट आरक्षित की गई हो;

(छ) आरक्षण शुल्क से अभिप्राय उस प्रभार से है, जो किराये से अतिरिक्त है, जो रेल प्रशासन द्वारा शायिका अथवा सीट के आरक्षण के ले वसूला जाता है;

(ज) स्टेशन से अभिप्राय एक रेलवे स्टेशन से है और समान शहर में अन्य आरक्षण कार्यालय अथवा बुकिंग कार्यालय इसमें शामिल होते हैं;

(झ) स्टेशन मास्टर से अभिप्राय एक रेलवे कर्मचारी से है, जिसका नाम कुछ भी हो सकता है, जो रेलवे स्टेशन का पूर्ण प्रभारी होता है और उसके साथ अन्य कोई रेलवे कर्मचारी स्टेशन पर किराये का रिफंड देने के लिए प्राधिकृत हो सकता है;

(ट) टिकट से अभिप्राय एक इकहरी यात्रा टिकट अथवा किसी वापसी टिकट के आधे भाग से है, किंतु इसमें सीजन टिकट, इंडरेल पास टिकट अथवा एक आरक्षित डिब्बे या टूरिस्ट कार या सैलून के लिए विशेष टिकट शामिल नहीं होता;

3. किराया रिफंड करने के लिए प्राधिकृत स्टेशन मास्टर:
(1) इन नियमों के प्रावधानों के अनुसार,  अप्रयुक्त अनारक्षित टिकटें, जब टिकट जारी करने वाले स्टेशन के स्टेशन मास्टर को रिफंड के लिए प्रस्तुत की जाती हों, तो स्टेशन मास्टर स्टेशन के रिकार्ड से उक्त टिकट के उचित होने का सत्यापन करके किराये का रिफंड देगा.

(2) इन नियमों के अन्य प्रावधानों के अनुसार, आरक्षित टिकटें, आरएसी टिकटें और प्रतीक्षासूची टिकटें, जब इन नियमों के अंतर्गत निर्धारित समय-सीमा के भीतर टिकट जारी करने वाले स्टेशन के स्टेशन मास्टर को रिफंड के लिए प्रस्तुत की जाती हों, तो स्टेशन मास्टर कंप्यूटर के माध्यम से अथवा स्टेशन के रिकार्ड से उक्त टिकट के उचित होने का सत्यापन करके किराये का रिफंड देगा :

बशर्ते :

(क) उन टिकटों के मामले में जो यात्रा वाले स्टेशन के अलावा अन्य किसी स्टेशन से जारी हुई हों, किराये का रिफंड इस प्रकार देय होगा -

(i)  टिकट जारी करने वाला स्टेशन, यदि गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान समय से पहले टिकट, उस स्टेशन पर सरेंडर की जाती हो, जहां से वह यात्रा के ले वैध हो; और

(ii) यात्रा का आरंभिक स्टेशन, यदि इन नियमों में निर्धारित समय-सीमा के भीतर टिकट सरेंडर की जाती हो, और

(ख) टिकट जारी करने वाले स्टेशन के अलावा अन्य स्टेशन और यात्रा का आरंभिक स्टेशन के स्टेशन मास्टर के द्वारा भी किराये का रिफंड दिया जा सकता है, बशर्ते -

(i) किराये के रिफंड के लिए टिकट संबंधित गाड़ी के जिस स्टेशन से टिकट यात्रा के लिए वैध हो,  के आरक्षण कार्यालय की कार्यावधि के दौरान और आरक्षण चार्ट तैयार होने से पहले सरेंडर कर दी जाती हो; और

(ii) टिकट की सत्यता और इसके विवरण रिफंड देने वाले स्टेशन पर कंप्यूटर के माध्यम से अथवा स्टेशन के रिकार्ड से सत्यापित कर ले जाते हों.

4. क्लर्केज (लिपिकीय प्रभार) लगाना :
इन नियमों के अन्य प्रावधानों के अनुसार, स्टेशन मास्टर अनारक्षित अथवा प्रतीक्षासूची अथवा आरएसी टिकटों के रद्दकरण के लिए प्रति यात्री बीस रुपए क्लर्केज वसूल करेगा, द्वितीय श्रेणी की अनारक्षित टिकटों के मामले में क्लर्केज प्रभारर केवल दस रुपए वसूल किए जाएंगे.

5. अप्रयुक्त टिकट जिस पर कोई आरक्षण नहीं कराया गया हो
यदि कोई टिकट जिस पर सीट या शायिका का आरक्षण नहीं करवाया गया हो, उस गाड़ी जिसके लिए टिकट जारी किया गया है, के वास्तविक प्रस्थान के बाद 3 घंटे के भीतर रद्दकरण के लिए प्रस्तुत किया जाता है, या पूरे दिन के लिए वैध कोई टिकट,  उस दिन गंतव्य स्टेशन के लिए अंतिम गाड़ी के वास्तविक प्रस्थान के बाद तीन घंटे के भीतर प्रस्तुत किया जाता है तो ऐसे टिकट पर क्लर्केज काटकर किराया वापस कर दिया जाता है.

6. टिकट जिस पर आरक्षण कराया गया हो
(1) इन नियमों के अंतर्गत, यदि कोई टिकट जिस पर सीट या शायिका का आरक्षण कराया गया हो, यात्री या उसके एजेंट द्वारा स्टेशन मास्टर को रद्दकरण के लिए प्रस्तुत किया जाता है तो निम्नानुसार रद्दकरण प्रभार काटकर किराया वापस कर दिया जाएगा

(क) यदि गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान से 24 घंटे से पहले तक टिकट रद्दकरण के लिए प्रस्तुत किया जाता है, तो रद्दकरण प्रभार वाता. प्रथम श्रेणी/एग्जीक्यूटिव श्रेणी के लिए 70/- रु., वाता.2 टीयर स्लीपर श्रेणी/वाता.3 टीयर स्लीपर/प्रथम श्रेणी/वाता.कुर्सीयान के लिए 60/- रु., स्लीपर श्रेणी के लिए 40/- रु. और द्वितीय श्रेणी के लिए 20/- रु. की फ्लैट दरों पर काट लिए जाएंगे

(ख) यदि  24 घंटे पहले और गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान से 4 घंटे के बीच टिकट रद्दकरण के लिए प्रस्तुत किया जाता है, तो रद्दकरण प्रभार ऊपर उपबंध (क) में वर्णित न्यूनतम फ्लैट दर के अंतर्गत किराये का 25% होगा

(ग) यदि टिकट गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान से 4 घंटे पहले से लेकर गाड़ी के वास्तविक प्रस्थान के -

(i) तीन घंटे बाद तक, यदि टिकट 200 कि.मी. तक के गंतव्य के लिए हो,

(ii) छह घंटे बाद तक, यदि टिकट 200 कि.मी. से अधिक और 500 कि.मी. तक के गंतव्य के लिए हो, और

(iii) 12 घंटे, यदि टिकट 500 कि.मी. से अधिक के गंतव्य स्टेशन तक के लिए हो, तो रद्दकरण प्रभार, ऊपर उपबंध (क) में वर्णित न्यूनतम फ्लैट दर के अंतर्गत किराये का 50% होगा बशर्ते 21.00 बजे से 6.00 बजे तक (वास्तविक प्रस्थान) प्रस्थान करने वाली रात्रि गाड़ियों के लिए रिफंड ऊपर बताई गई समय-सीमा के अंतर्गत, स्टेशन पर किया जाएगा या आरक्षण कार्यालय खुलने के दो घंटे के भीतर, जो भी बाद में हो, रिफंड किया जाएगा।

(2) यदि रद्दकरण के लिए उपबंध (सी) के उप-नियम(1) के अंतर्गत उल्लिखित अवधि के बीत जाने के बाद, टिकट प्रस्तुत किया जाता है तो स्टेशन पर कोई रिफंड नहीं किया जाएगा।<

नोट: एक से अधिक व्यक्तियों द्वारा यात्रा के लिए जारी की गई किसी पार्टी या फैमिली टिकट पर, यदि कुछ व्यक्तियों का आरक्षण पुष्ट हो और अन्य प्रतीक्षासूची पर हों, तो क्लर्केज काटकर कंफर्म यात्रियों को भी पूरा किराया रिफंड किया जाएगा, बशर्ते किसी पूरा टिकट गाड़ी के प्रारंभिक स्टेशन पर गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान समय से चार घंटे पहले और वास्तविक प्रस्थान से तीन घंटे के बाद तक रद्दकरण के लिए प्रस्तुत किया जाता हो.

7. अप्रयुक्त प्रतीक्षा-सूची या आर.ए.सी. टिकटें
(1) उपनियम (2) के उपबंधों के अंतर्गत,  इस स्थिति में कोई रद्दकरण प्रभार वसूला नहीं जाएगा,  यदि प्रतीक्षासूची या आर.ए.सी. टिकट निम्नानुसार प्रस्तुत किएओ जाते हों, गाड़ी के वास्तविक प्रस्थान के -

(i) तीन घंटे बाद तक,  यदि टिकट 200 कि.मी. तक के गंतव्य के लिए हो,

(ii) छह घंटे बाद तक, यदि टिकट 200 कि.मी. से अधिक और 500 कि.मी. तक के गंतव्य के लिए हो, और

(iii) 12 घंटे तक, यदि टिकट 500 कि.मी. से अधिक के गंतव्य स्टेशन तक के लिए

बशर्ते 21.00 बजे से 6.00 बजे तक (वास्तविक प्रस्थान) प्रस्थान करने वाली रात्रि गाड़ियों के लिए रिफंड ऊपर बताई गई समय-सीमा के अंतर्गत, स्टेशन पर किया जाएगा या आरक्षण कार्यालय खुलने के पहले चार घंटे के भीतर, जो भी बाद में हो, रिफंड किया जाएगा.

(2) आरक्षण चार्ट के अंतिम रूप से तैयार होने तक किसी भी समय यदि प्रतीक्षा सूची या आर.ए.सी. टिकटधारकों को कंफर्म आरक्षण दे दिया जाता है तो ऐसे टिकटों को आरक्षित टिकट समझा जाएगा और रद्दकरण प्रभार ऊपर वर्णित नियम 6 के अनुसार काटे जाएंगे.

8. मल्टीपल यात्रा टिकटों पर रद्दकरण प्रभार
जब एक से अधिक यात्राओं के लिए अप्रयुक्त कोई टिकट रद्दकरण के लिए प्रस्तुत किया जाता है तो संपूर्ण टिकट को एकल यात्रा टिकट समझा जाएगा और संपूर्ण टिकट के लिए किराये का रिफंड, यात्रा के विभिन्न चरणों की स्थिति के बावजूद, पहले चरण की यात्रा के आरक्षण स्टेटस के अनुसार निम्नानुसार दिया जाएगा

(1) यदि पहले चरण की यात्रा का आरक्षण कंफर्म हो, तो नियम 6 के अनुसार रिफंड दिया जाएगा और

(2) यदि प&##2361;ले चरण की यात्रा का आरक्षण आरएसी या प्रतीक्षासूची हो, तो नियम 7  के अनुसार रिफंड दिया जाएगा.

नोट: रद्दकरण प्रभार अथवा क्लर्केज पूरे टिकट की राशि के अनुसार एक ही बार लिया जाएगा, यात्रा के प्रत्येक चरण के लिए अलग-अलग नहीं.

9. किसी आरक्षित, आरएसी अथवा प्रतीक्षासूची टिकट पर यात्रा का पोस्टपोनमेंट अथवा प्रीपोनमेंट :
(1) यात्रा का पोस्टपोनमेंट :
(क) कंफर्म टिकट : कंफर्म टिकटों पर यात्रा का पोस्टपोनमेंट समान अथवा उच्च श्रेणी में समान अथवा अगले दिन, समान अथवा लंबी दूरी के गंतव्य के लिए अनुमत किया जाएगा, बशर्ते:

(i) जिस गाड़ी में नया आरक्षण मांगा गया हो, उसमें कंफर्म अथवा आरएसी अथवा प्रतीक्षासूची स्थान उपलब्ध हो;

(ii) यदि जिस गाड़ी के लिए मूल रूप से टिकट बुक कराया गया हो, उसके निर्धारित प्रस्थान से चौबीस घंटे पहले कार्यघंटों के दौरान टिकट  सरेंडर की जाती हो, तो जिस श्रेणी के लिए आरक्षण मांगा गया है, उसके लिए नया आरक्षण शुल्क लिया जाता है;

(iii) यदि जिस गाड़ी के लिए मूल रूप से टिकट बुक कराया गया हो, उसके निर्धारित प्रस्थान से चौबीस घंटे पहले कार्यघंटों के दौरान टिकट  सरेंडर की जाती हो, तो पहले से बुक टिकट का 25% किराया रद्दकरण प्रभार के रूप में काटा जाता है;

(iv) यदि जिस गाड़ी के लिए मूल रूप से टिकट बुक कराया गया हो, उसके निर्धारित प्रस्थान से चार घंटे पहले और गाड़ी के वास्तविक प्रस्थान के बाद नियम 6(i)(ग) में उल्लिखित अधिकतम समय-सीमा (अर्थात् दूरी के आधार पर, तीन या छह अथवा बारह घंटे) के भीतर कार्यघंटों के दौरान टिकट  सरेंडर की जाती हो, तो पहले से बुक टिकट का 50% किराया रद्दकरण प्रभार के रूप में काटा जाता है. 

(ख): आरएसी और प्रतीक्षासूची टिकट :
कंफर्म, आरएसी और प्रतीक्षासूची टिकटों पर यात्रा का पोस्टपोनमेंट समान अथवा उच्च श्रेणी में अनुमत किया जाएगा, जो समान अथवा अगले दिन किसी अगली गाड़ी में, समान अथवा लंबी दूरी के गंतव्य के लिए होगा, बशर्ते :

(i) जिस गाड़ी में नया आरक्षण मांगा गया हो, उसमें कंफर्म अथवा आरएसी अथवा प्रतीक्षासूची स्थान उपलब्ध हो;

(ii) जिस गाड़ी के लिए मूल रूप से टिकट बुक कराया गया हो, उसके वास्तविक प्रस्थान के बाद कार्यघंटों के दौरान और नियम 6(i)(ग) में उल्लिखित अधिकतम समय-सीमा (अर्थात् दूरी के आधार पर, तीन या छह अथवा बारह घंटे) के भीतर टिकट सरेंडर की जाती हो;

(iii) क्लर्केज प्रभार का भुगतान किया जाता हो;

(2) यात्रा का प्रीपोनमेंट   :
कंफर्म, आरएसी और प्रतीक्षासूची टिकटों पर यात्रा का प्रीपोनमेंट समान अथवा उच्च श्रेणी में अनुमत किया जाएगा, जो समान अथवा अगले दिन किसी अगली गाड़ी में, समान अथवा लंबी दूरी के गंतव्य के लिए होगा, बशर्ते :

(क) जिस गाड़ी में नया आरक्षण मांगा गया हो, उसमें कंफर्म अथवा आरएसी अथवा प्रतीक्षासूची स्थान उपलब्ध हो; 

(ख) कार्यघंटों के दौरान टिकट गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान समय से कम से कम छह घंटे पहले, और जिस गाड़ी का आरक्षण मांगा गया हो उसका चार्ट तैयार होने से पहले, इनमें जो भी बाद में हो,  आरक्षण कार्यालय में सरेंडर की जाती हो; 

(ग) कंफर्म टिकटों पर प्रीपोनमेंट के मामले में, जिस श्रेणी के लिए आरक्षण मांगा गया हो, उसका नया आरक्षण शुल्क अदा किया जाता हो;  और

(घ) आरएसी और प्रतीक्षासूची टिकटों पर प्रीपोनमेंट के मामले में, क्लर्केज प्रभार का भुगतान किया जाता हो;

(3) मूल रूप से बुक टिकट और संशोधित यात्रा टिकट के किराये का अंतर, जैसा भी मामला हो,  रिफंड या रिकवर किया जाएगा, इसके लिए उपर्युक्त नियम 9 के उप-नियम (1) और (2) के प्रावधानों का पालन किया जाएगा.

(4) उप-नियम (1) अथवा (2) के अंतर्गत यात्रा के पोस्टपोनमेंट अथवा प्रीपोनमेंट की अनुमति केवल एक बार दी जाएगी.

(5) साधारण गाड़ी टिकट पर यात्रा का पोस्टपोनमेंट अथवा प्रीपोनमेंट तत्काल कोटा, यहां तक कि तत्काल प्रभार अदा करने पर भी, में लागू नहीं होगा. 

(6) यदि वह टिकट, जिस पर यात्रा में परिवर्तन किया गया हो, उप-नियम (1) अथवा (2) के अंतर्गत रद्द की जाती है,  तो रद्दकरण प्रभारों का भुगतान निम्नानुसार करना होगा

(क)  यदि मूल आरक्षण वाली टिकट यात्रा के पोस्टपोनमेंट अथवा प्रीपोनमेंट के लिए रद्द कर दी जाती हो तो रद्दकरण प्रभार देय होंगे, और

(ख) परिवर्तित आरक्षण वाली टिकट के मामले में परिवर्तित आरक्षण नया आरक्षण होता है, तो रद्दकरण प्रभार देय होंगे.

(ग) ऐसे मामलों में जहां यात्रा में परिवर्तन के समय 25% अथवा 50% रद्दकरण प्रभार वसूले गए हों,खंड (क) में उल्लिखित रद्दकरण प्रभार पुनः नहीं वसूले जाएंगे और केवल खंड (ख) में उल्लिखित रद्दकरण प्रभार वसूले जाएंगे.

10. निचली श्रेणी से उच्च श्रेणी में यात्रा परिवर्तन:
(1) निचली श्रेणी के आरक्षित टिकट पर आरक्षण के उच्च श्रेणी में परिवर्तन की अनुमति समान गाड़ी और समान दिन तभी दी जाएगी जब समान गाड़ी और समान दिन यात्रा के लिए उस श्रेणी में सीट या शायिका आरक्षित हो, इसके लिए कोई रद्दकरण प्रभार वसूला नहीं जाएगा किंतु उच्च श्रेणी/शायिका के लिए नये आरक्षण शुल्क का भुगतान करना होगा, बशर्ते :

(i) स्थान उपलब्ध हो, और

(ii) परिवर्तन के लिए निम्नानुसार अनुरोध किया गया हो -

(क) या तो आरक्षण कार्यालय के कार्यघंटों के दौरान और  गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान से छह घंटे पहले तक, अथवा

(ख) यात्रा के दौरान गाड़ी में;

(2) उप-नियम (1) के अंतर्गत परिवर्तन की अनुमति केवल एक बार दी जाएगी

(3) यदि वह टिकट जिस पर उप-नियम (1) के अंतर्गत आरक्षण के परिवर्तन की अनुमति दी गई हो, रद्द करा ली जाती है, तो रद्दकरण प्रभार निम्नानुसार वसूले जाएंगे :

(क) जब आरक्षण में परिवर्तन की अनुमति दी गई थी,  यदि मूल आरक्षण रद्द कराया गया होता, तो देय रद्दकरण प्रभार; और

(ख) परिवर्तित आरक्षण के संबंध में रद्दकरण प्रभार यदि परिवर्तित आरक्षण एक नया आरक्षण होता.

11. गाड़ियों के देरी से चलने के कारण यात्रा शुरु न कर पाना अथवा यात्रा से चूक जाना :
(1) यदि गाड़ी अपने आरंभिक स्टेशन से याज्ञा के निर्धारित प्रस्थान समय से तीन घंटे से अधिक समय की देरी से चलती है और यदि नियम 6 के उप-नियम (1) के खंड (ग) में निर्धारित अधिकतम समय-सीमा के भीतर टिकट सरेंडर कर दी जाती है, तो आरक्षित, आरएसी और प्रतीक्षासूची टिकट लिए सभी यात्रियों को पूरा किराया रिफंड किया जाएगा और कोई रद्दकरण प्रभार अथवा क्लर्केज नहीं वसूला जाएगा.

(2) जब कोई आरक्षित या अनारक्षित टिकटधारक यात्री अपनी गाड़ी के देरी से चलने के कारण किसी जंक्शन स्टेशन पर अन्य किसी कनेक्टिड गाड़ी से अपनी यात्रा जारी नहीं रख पाता, तो उसने जितने हिस्से यात्रा की है, उसका किराया छोड़कर यात्रा न किए गए  भाग का शेष किराया उसे वापस किया जाएगा, और यदि अपनी गाड़ी के वास्तविक आगमन समय के तीन घंटे भीतर अपनी टिकट सरेंडर कर देता है, तो उस पर कोई रद्दकरण प्रभार अथवा क्लर्केज नहीं लगाया जाएगा और जंक्शन स्टेशन पर उसे राशि रिफंड की जाएगी.  

12. जब रेल प्रशासन स्थान उपलब्ध कराने में असमर्थ हो, उस स्थिति में  टिकटों का रद्दकरण :
जब कभी रेल प्रशासन किन्हीं भी कारणों से आरक्षित टिकटधारक यात्रियों को स्थान उपलब्ध कराने में असमर्थ हो तो कोई रद्दकरण प्रभार वसूले नहीं जाएंगे और पूरा किराया, उन्हीं टिकटों पर रिफंड किया जाएगा, जो गाड़ी के वास्तविक प्रस्थान समय के तीन घंटे के भीतर रिफंड के लिए सरेंडर की जाती हों

बशर्ते जब अचानक किन्हीं असामान्य कारणों से गाड़ी रद्द की जाती हो, जैसे दुर्घटना, जलकटाव, बाढ़ आदि, और गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान दिन को छोड़कर तीन दिन के भीतर टिकट सरेंडर की जाती हो.  

13. आंशिक रूप से प्रयुक्त टिकटें :
(1) इन नियमों में उल्लिखित के अलावा, ऐसे किसी टिकट पर स्टेशन पर रिफंड नहीं दिया जाएगा, जिस पर किसी हिस्से तक यात्रा की गई हो.  

(2) जहां कोई यात्री मार्ग में अपनी यात्रा समाप्त कर देता है, उक्त टिकटधारक को उक्त स्टेशन  के स्टेशन मास्टर द्वारा सरेंडर की गई टिकट के बदले एक टिकट जमा रसीद जारी की जाएगी और नियम 21 के अंतर्गत उसे रिफंड दिया जाएगा. ऐसे मामलों में, यात्रा न किए गए हिस्से का किराया काट लिया जाएगा और टिकट की यात्रा न किए गए हिस्से की शेष राशि रिफंड कर दी जाएगी.

14. गाड़ी सेवाओं के स्थगन के कारण यात्रा का रुकना :
(1) जब अचानक किन्हीं असामान्य कारणों, जैसे दुर्घटना, जलकटाव, बाढ़ आदि के कारण यात्रा मार्ग में स्थगित कर दी जाती है, तो संपूर्ण बुक यात्रा का पूरा किराया उस स्टेशन पर कोई रद्दकरण प्रभार वसूले बिना रिफंड किया जाएगा जहां निम्नलिखित कारणों से यात्रा स्थगित की गई हो :-

(क) जब रेलवे यात्रियों को पर्याप्त समयावधि में ट्रांशिपमेंट अथवा मार्गपरिवर्तन  अथवा अन्यथा प्रबंधों द्वारा उनके गंतव्य स्टेशन पर नहीं पहुंचा पाती हो;  अथवा

(ख) जब रेलवे दुर्घटना और/अथवा दुर्घटना में घायल होने में यात्री स्वयं शामिल हो और अपनी यात्रा जारी नहीं रख सके; अथवा

(ग) जब रेलवे दुर्घटना में यात्री की मृत्यु हो जाए या वह घायल हो जाए, और यात्री के करीबी रिश्तेदारों को यात्रा स्थगति करनी पड़े

(2) जब रेल प्रशासन  यात्रियों को  ट्रांशिपमेंट व्यवस्था अथवा अन्यथा द्वारा परिवर्तित मार्ग से ले जाना चाहे और यात्री उस वैकल्पिक मार्ग से यात्रा नहीं करना चाहे, तो यात्रा किए गए हिस्से का किराया काटकर, यात्रा स्थगन वाले स्टेशन पर यात्रा न किए गए हिस्से का किराया रिफंड कर दिया जाएगा, जिसके लिए कोई रद्दकरण प्रभार नहीं वसूले जाएंगे.  

(3) जब किसी बंद, आंदोलन अथवा रेल रोको आंदोलन के कारण मार्ग में गाड़ी की यात्रा स्थगित हो जाती है, तो यात्रा किए गए हिस्से का किराया काटकर, यात्रा न किए गए हिस्से का किराया रिफंड कर दिया जाएगा, जिसके लिए कोई रद्दकरण प्रभार नहीं वसूले जाएंगे.

(4) यदि ऐसी गाड़ियां, जिनकी किराया संरचना स्थल-से-स्थल आधार पर हों, गैर-निर्धारित ठहराव पर स्थगित हो जाती हैं और यात्री रेल प्रशासन द्वारा किए गए वैकल्पिक प्रबंधों के अंतर्गत गंतव्य स्टेशन पर पहुंचने के इंतजाम का लाभ नहीं लेना चाहता, तो यात्रा किए गए हिस्से का प्रति किलोमीटर की दर से किराया काटकर, यात्रा न किए गए हिस्से का शेष किराया रिफंड कर दिया जाएगा.  

15. वातानुकूलित डिब्बों में वातानुकूलन सुविधा की विफलता के कारण कुछ किराये का रिफंड :
(1) जब किसी यात्रा के हिस्से में वातानुकूलन की सुविधा की विफल हो जाए, तो उक्त हिस्से के लिए वातानुकूलित कोचों के लिए जारी टिकटों पर निम्नलिखित आधार पर रिफंड किया जाएगा :

(क) यदि वातानुकूलित प्रथम श्रेणी का टिकट हो, तो वाता. प्रथम श्रेणी किराये और प्रथम श्रेणी किराये के बीच का अंतर;

(ख) यदि वाता. स्लीपर/वाता. 3-टीयर स्लीपर श्रेणी का टिकट हो, तो वाता. स्लीपर/वाता. 3-टीयर स्लीपर श्रेणी के किराये और स्लीपर श्रेणी किराये (मेल और एक्सप्रेस) के बीच का अंतर;

(ग) यदि वाता. कुर्सीयान का टिकट हो, तो वाता. कुर्सीयान और द्वितीय श्रेणी किराया (मेल और एक्सप्रेस) के बीच किराये का अंतर;

(घ) यदि एग्जीक्यूटिव श्रेणी का टिकट हो, तो संबंधित सेक्शन में चिह्नित एग्जीक्यूटिव श्रेणी और उस सेक्शन की संबंधित दूरी के लिए प्रथम श्रेणी (मेल और एक्सप्रेस)   के किराये का अंतर.

(2) उप-नियम (1) के अंतर्गत किराये के अंतर का रिफंड गंतव्य स्टेशन पर किया जाएगा, जिसके लिए टिकट के साथ कंडक्टर अथवा  गार्ड अथवा चल टिकट परीक्षक द्वारा जारी प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करना होगा, जिस पर टिकट के विवरण, कोच का नंबर और जिन स्टेशनों के बीच वातानुकूलन की सुविधा नहीं थी,  उनका विवरण होगा,  और इसे गाड़ी के आगमन के चौबीस घंटे के भीतर प्रस्तुत करना होगा.  

16. जब स्थान पाने के लिए यात्री निचली श्रेणी में यात्रा करता है :
यदि कोई उच्च श्रेणी टिकटधारक स्थान पाने के लिए निचली श्रेणी में यात्रा करना चाहता है, तो उसे अदा किए गए किराये और उस श्रेणी, जिसका वास्तव में वह उपयोग करता है, के बीच अंतर की राशि रिफंड की जाएगी, जो उसे गंतव्य स्टेशन अथवा प्रारंभिक स्टेशन,  जैसा भी मामला हो, अदा की जाएगी :

बशर्ते गंतव्य स्टेशन पर रिफंड तभी दिया जाएगा, जब वह कंडक्टर अथवा गार्ड अथवा चल टिकट परीक्षक द्वारा जारी प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करेगा कि उसने आरक्षित स्थान पाने के लिए निचली श्रेणी में यात्रा की है, और उक्त प्रमाण-पत्र के साथ उसे अपना टिकट भी प्रस्तुत करना होगा, जो प्रमाण-पत्र जारी होने के दो दिन (प्रमाण-पत्र जारी होने की तारीख को छोड़कर) के भीतर प्रस्तुत कर देना चाहिए.  

17. खोई हुई, गुम हुई, फटी अथवा मुड़ी-तुड़ी टिकट :
(1) खोई हुई अथवा गुम हुई टिकट के मामले में किराया रिफंड नहीं किया जाएगा.

(2) किसी फटी अथवा मुड़ी-तुड़ी टिकट के मामले में किराया तभी रिफंड किया जाएगा, जब टिकट पर इसके विवरणों के सही और प्रामाणिक होने संबंधी सत्यापन कर लिया जाएगा.  

(3) (i) यदि डुप्लीकेट टिकट जारी कराने के लिए प्रस्तुत आवेदन के समय यात्रा के लिए किसी खोई हुई, गुम हुई, फटी अथवा मुड़ी-तुड़ी टिकट की आरक्षण स्थिति कंफर्म अथवा आरएसी हो, और उस गाड़ी के आरक्षण चार्ट तैयार होने से पहले डुप्लीकेट टिकट मांगी जाती है, तो स्टेशन मास्टर मूल टिकट के बदले प्रति यात्री क्लर्केज प्रभार वसूल करके एक डुप्लीकेट टिकट जारी करí#2375;गा.  

(ii) यदि संबंधित गाड़ी के आरक्षण चार्ट तैयार होने के बाद खोई हुई अथवा गुम हुई आरक्षित टिकट के बदले डुप्लीकेट टिकट मांगी जाती है,. तो कुल किराये की पचास प्रतिशत राशि के बराबर प्रभार लेते हुए डुप्लीकेट टिकट जारी की जाएगी.  संबंधित गाड़ी के आरक्षण चार्ट तैयार होने के बाद आरएसी टिकटों के मामले में डुप्लीकेट टिकट जारी नहीं की जाएगी.  

(iii) यदि संबंधित गाड़ी के आरक्षण चार्ट तैयार होने के बाद  फटी अथवा मुड़ी-तुड़ी आरक्षित अथवा आरएसी टिकट के बदले डुप्लीकेट टिकट मांगी जाती है, तो कुल किराये की पच्चीस प्रतिशत राशि के बराबर प्रभार लेते हुए डुप्लीकेट टिकट जारी की जाएगी.

(iv) किसी पार्टी कोच टिकट अथवा किसी विशेष गाड़ी टिकट के मामले में डुप्लीकेट टिकट,  गाड़ी के प्रस्थान समय तक जारी की जाएगी , जिसके लिए कुल किराये की दस प्रतिशत राशि के बराबर प्रभार लेते हुए डुप्लीकेट टिकट जारी की जाएगी.

(4) (i) उप-नियम (3) के अंतर्गत वसूले गए प्रभारों के संबंध में कोई रिफंड नहीं दिया जाएगा, सिवाय उन मामलों में जब डुप्लीकेट टिकट जारी होने के बाद खोई हुई अथवा गुम हुई टिकट मिल जाती है, गाड़ी के प्रस्थान से पहले डुप्लीकेट टिकट के साथ प्रस्तुत की जाती है.  डुप्लीकेट टिकट जारी करने के लिए वसूले गए प्रभार पांच प्रतिशत राशि काटकर वापस कर दिए जाएंगे, बशर्ते कटौती की न्यूनतम राशि बीस रुपए होगी. यदि यात्रा नहीं की जाती है, तो मूल टिकट पर रद्दकरण प्रभार उसी प्रभार लागू किए जाएंगे जैसा इन नियमों में निर्धारित है. (ii) यदि यात्री, जिसने अपनी खोई हुई, गुम हुई, फटी अथवा मुड़ी-तुड़ी आरक्षित टिकट अथवा आरएसी टिकट पर गाड़ी में अतिरिक्त प्रभार अदा किए हों, रेल प्रशासन को गाड़ी में अदा किए गए उन प्रभारों के रिफंड के लिए आवेदन करता है, तो संबंधित रेलवे का मुख्य वाणिज्य प्रबंधक (रिफंड), जैसा आवश्यक समझे तत्संबंधी जांच करके, गाड़ी में वसूले गए कुल प्रभारों को रिफंड कर सकता है, जिसके लिए प्रति यात्री इकहरी यात्रा टिकट किराये की पचास प्रतिशत की दर से रद्दकरण प्रभारों की कटौती की जाएगी, बशर्ते किसी और ने मूल टिकट पर पहले रिफंड नहीं लिया हो.

18. रियायती और सुविधा टिकट आदेश टिकटों पर प्रतीक्षासूची वाले यात्री :
जब कोई व्यक्ति कोई रियायती टिकट या सुविधा टिकट आदेश खरीदता है, और किसी भी गाड़ी में उसे प्रतीक्षसूची मिलती है, तो वह उसी या अन्य किसी तारीख को रियायती किराये का लाभ खोये बिना किसी अन्य गाड़ी में आरक्षण लेने का पात्र होता है. 

19. वापसी टिकटों का अप्रयुक्त अंश :
(1) रियायती वापसी टिकटों के अप्रयुक्त अंशों पर कोई रिफंड अदा नहीं किया जाएगा.

(2) जब कोई वापसी टिकट बिना रियायत के जारी की जाती है, इसे दो इकहरी यात्रा टिकटों के समान माना जाएगा और तदनुसार रिफंड दिया जाएगा. 

20. यदि समान टिकट पर सामान बुक किया जाता है और उस टिकट पर यात्रा नहीं की जाती, तो अप्रयुक्त टिकटों पर किराये और सामान टिकटों पर लिए गए मालभाड़े का रिफंड:
(1) सामान पर मालभाड़े की वापसी स्टेशन मास्टर द्वारा निम्नुसार की जाएगी :

(क) प्रारंभिक स्टेशन पर सामान वापस लिया जाता है. सामान टिकट रद्द किया जाएगा और पहले से वसूला गया मालभाड़ा, यदि कोई हो, स्थान शुल्क प्रभार काटकर वापस किया जाएगा और प्रति सामान टिकट पांच रु. रद्दकरण प्रभार की कटौती की जाएगी. इस आशय का पृष्ठांकन यात्रा टिकट पर किया जाएगा.
(ख) सामान प्रारंभिक स्टेशन से पहले ही प्रेषित हो चुका हो मालभाड़ा प्रभार भार के अनुसार वसूला जाता है, अतः फ्री अलाउंस वसूला जाता है और इस आशय की टिप्पणी यात्रा टिकट पर कर दी जाती है.

(2) यात्रा टिकट प्रस्तुत करने पर, जिस पर सामान बुक किया गया है,  केवल तभी किराया रिफंड किया जाएगा, यदि अप्रयुक्त टिकट पर संदर्भित उप-नियम (1)  hके अनुसार पृष्ठांकन किया गया हो, इसके लिए नियमानुसार रद्दकरण प्रभार या क्लर्केज  की कटौती की जाएगी. 

21. अन्य परिस्थितियों में रिफंड के लिए आवेदन :
इन नियमों के अलावा अन्य किन्हीं परिस्थितियों में या जहां रिफंड देय नहीं है या इन नियमों अथवा अन्यथा के अंतर्गत समय-सीमा की समाप्ति के बाद स्टेशन पर रिफंड नहीं दिया जाता,   किराये के रिफंड  के लिए यात्री को सरेंडर किए गए टिकट के बदले, टिकट सरेंडर किए जाने वाले स्टेशन से एक टिकट जमा रसीद जारी की जाती है, जिसके द्वारा यात्री यात्रा की शुरुआत की तारीख से 90 दिनों के भीतर  रेल प्रशासन के मुख्य वाणिज्य प्रबंधक (रिफंड) को रिफंड का दावा प्रस्तुत कर सकता है, जिसके कार्यक्षेत्र में उक्त टिकट जमा रसीद जारी करने वाला स्टेशन आता है, उसे मूल टिकट जमा रसीद जमा करनी होगी. टिकट जमा रसीद जारी गाड़ी के निर्धारित प्रस्थान  के बाद तीस दिनों तक जारी की जा सकती है.





1. क्लर्केज प्रभार के समकक्ष मूल्य वाली टिकटों पर कोई रिफंड नहीं :
ऐसे सभी मामलों में जहां लिया गया किराया क्लर्केज प्रभार से कम या बराबर हो, रद्दकरण या सरेंडर की गई टिकटों पर कोई रिफंड देय नहीं है.

2. राजधानी/शताब्दी टिकटों पर यात्रा विराम पर कोई रिफंड नहीं :
चूंकि राजधानी/शताब्दी गाड़ियों का किराया स्थल-से-स्थल आधार पर लिया जाता है,  इन गाड़ियों की टिकटों पर यात्रा-विराम की य़्मति नहीं है और, इसलिए, इन आंशिक रूप से प्रयुक्त टिकटों पर की रिफंड देय नहीं होता है.

3. संयुक्त टिकट पर यात्रा करने वाले यात्रियों की कम संख्या के लिए रिफंड :
(i) ऐसे मामलों में जहां यहां से पहले यह पता लग जाता है कि कम संख्या में यात्री यात्रा करने वाले हैं, तो प्रारंभिक स्टेशन पर मूल संयुक्त टिकटें एकत्र कर ली जाती हैं और शेष यात्रियों के लिए एक निशुल्क ईएफटी जारी की जाती है. जो यात्री यात्रा नहीं कर रहे हों, उनसे सामान्य रद्दकरण प्रभार वसूलते हुए स्टेशन पर ही रिफंड किया जाता है.

(ii) जो पार्टियां यात्रा आरंभ होने से पहले रिफंड नहीं ले पातीं, उन्हें कंडक्टर/टीटीई से संपर्क करना चाहिए, जो टिकटों की जांच करने के बाद तत्काल निर्धारित गार्ड प्रमाणपत्र जारी करेंगे, ताकि पार्टी मुख्य वाणिज्य प्रबंधक कार्यालय से रिफंड के लिए दावा प्रस्तुत कर सके.

4. डुप्लीकेट टिकट जारी करने के लिए एफ.आई.आर.की आवश्यकता नहीं है :
   खोई हुई/गुम हुई टिकटों के मामले में डुप्लीकेट टिकट जारी कराने के लिए एफ.आई.आर. आवश्यक नहीं है.

5. गार्ड द्वारा प्रमाण-पत्र जारी करना :
 (i) निचली श्रेणी में यात्रा, (ii) वातानुकूलित डिब्बे में वातानुकूलन की विफलता (iii) मार्गवर्ती स्टेशन पर यात्रा के स्थगति होने और (iv) संयुक्त टिकट पर कम संख्या में यात्रियों द्वारा यात्रा की स्थिति में अपेक्षित गार्ड प्रमाण-पत्र लेने के लिए कोच के गार्ड/कंडक्टर/टी.टी.ई. प्रभारी से संपर्क किया जाना चाहिए.

6. सामान्य निर्धारित समय-सीमा के बाद कुछ निश्चित स्टेशनों के स्टेशन प्रबंधकों को रिफंड के विवेकाधिकार दिए गए हैं :

(i) ऐसे मामलों में जहां स्टेशन पर नगद रिफंड दिया जाना हो, निम्नलिखित स्टेशनों के प्रभारी स्टेशन मास्टरों को रिफंड दिए जाने संबंधी विशेष विवेकाधिकार दिए गए हैं :

1 मुंबई सीएसटी 2 दादर 3 पुणे
4 कल्याण 5 नागपुर 6 थाणे
7 भोपाल 8 जबलपुर 9 घाटकोपर
10 आगरा कैंट 11 डोम्बिवली 12 झांसी
13 सोलापुर 14 ग्वालियर 15 भुसावल
16 कुर्ला 17 नासिक 18 मुलुंड
19 गुलबर्गा 20 अंबरनाथ 21 अकोला
22 कानपुर सेंट्रल 23 भांडुप 24 जलगांव जं.
25 मथुरा जं. 26 सतना 27 कटनी जं.
28 मनमाड जं. (ब.ला.) 29 विक्रोली 30 इटारसी
31 मानखुर्द 32 उल्हासनगर 33 भायखला
34 बदनेरा 35 खंडवा जं. 36 फरीदाबाद
37 सिओन 38 मुंबरा 39 वडाला
40 मस्जिद 41 गोवंदी 42 वर्धा
43 शाहद 44 चालीसगांव 45 बांदा
46 बीना जं. 47 राजा-की-मंडी 48 चेंबूर
49 सौगढ़ 50 मुरैना 51 सेंडहर्स्ट रोड
52 शेगांव 53 लोनावला 54 मैहार
55 गुरु तेग बहादुर नगर 56 हबीबगंज 57 अहमदनगर
58 बुरहानपुर 59 चंद्रपुर (महाराष्ट्र) 60 करी रोड
61 अमरावती 62 बदलापुर 63 विदिशा
64 दौंड 65 बल्लारशाह 66 ललितपुर

67 हवड़ा 68 पटना 69 धनबाद
70 सियालदाह 71 आसनसोल जं. 72 गया जं.
73 मुगलसराय 74 बर्दवान 75 भागलपुर
76 दुर्गापुर 77 बक्सर 78 जसीडीह
79 दम दम जं. 80 आरा जं. 81 मोकामा
82 देहरी-ऑन-सोन 83 नैहाटी 84 मालदा टाउन
85 श्रीरामपुर 86 बंदेल जं. 87 कोडरमा
88 रानीगंज 89 बैरकपुर 90 दानापुर
91 बरौनी जं. 92 तारकेश्वर 93 बालीगंज
94 रानाघाट 95 चंदननगर 96 कृष्णानगर सिटी
97 जमालपुर 98 कांचरापाड़ा 99 बख्तियारपुर
100 कुउल जं. 101 बोलपुर 102 गोमोह जं.
103 रामपुरहाट 104 सोदापुर 105 लकीसराय
106 सासारम 107 बेलगड़िया 108 जमुई
109 झाझा 110 श्यामनगर 111 सì#2366;हिबगंज
112 डाल्टनगंज 113 हजारीबाग रोड 114 पटना साहिब
115 मधुपुर        

116 आई.आर.सी.ए. 117 नई दिल्ली 118 दिल्ली
119 कानपुर 120 वाराणसी 121 लखनई
122 इलाहाबाद 123 अमृतसर 124 लुधियाना
125 जोधपुर जं. 126 जलंधर शहर 127 अंबाला कैंट
128 बरेली 129 पठानकोट 130 देहरादून
131 बीकानेर 132 मुरादाबाद 133 अलीगढ़
134 ह.निज्मुद्दीन 135 सहारनपुर 136 मेरठ शहर
137 हरिद्वार 138 चंडीगढ़ 139 गाजियाबाद
140 फैजाबाद 141 बठिंडा 142 शाहजहांपुर
143 राईकाबाग पैलेस 144 श्री गंगानगर 145 हनुमानगढ़ जं.
146 फिरोजपुर कैंट 147 इटावा 148 जलंधर कैंट
149 टूंडला 150 प्रतापगढ़ 151 मिर्जापुर
152 पानीपत 153 जंघई 154 अकबरपुर
155 जम्मू तवी 156 दिल्ली शाहदरा 157 सोनीपत
158 जौनपुर 159 फगवाडा 160 रेवाड़ी
161 ब्यास 162 रायबरेली 163 भदोही
164 रोहतक 165 लालगढ़ (मी.ला/ब.ला) 166 मुजफ्फरनगर
167 करनाल 168 रुड़की 169 जगाधरी
170 सूरतगढ़ (मी.ला/ब.ला) 171 मेरठ कैंट 172 फिरोजाबाद
173 हापुरड़ 174 सुलतानपुर 175 हिसार (मी.ला/ब.ला)
176 हरदोई 177 रामपुर 178 नजीबाबाद
179 उन्नाव 180 फतेहपुर 181 अयोध्या
182 दिल्ली कैंट 183 सादुलपुर 184 शिमला
185 खन्ना 186 कालका 187 पटियाला
188 भिवानी 189 राजपुरा 190 कुरुक्षेत्र
191 अमरोहा 192 प्रयाग 193 चुरू
194 शिकोहाबाद 195 रतनगढ़ 196 सरहिंद
197 चंदौसी        

198 गोरखपुर जं. 199 मुजफ्फरपुर 200 लखनऊ जं.
201 सीवान जं. 202 समस्तीपुर 203 छपरा जं.
204 देवरिया सदर 205 गोंडा जं. 206 कटिहार जं.
207 बस्ती 208 सहरसा 209 बरौनी जं.
210 वाराणसी 211 कानपुर सेंट्रल 212 हाजीपुर जं.
213 दरभंगा 214 मानकपुर 215 खगड़िया
216 बलिया 217 बादशाहनगर 218 काठगोदाम
219 मऊ जं. 220 कासगंज 221 खलीलाबाद
222 भटनी जं. 223 बहराइच 224 बरहनी
225 बानमंखी 226 पीलीभीत 227 फतेहगढ़
228 सोनपुर जं. 229 बरेली जं. 230 सलेमपुर

231 गुवाहाटी 232 सिलीगुड़ी टाउन सीबीओ (ब.ला.) 233 न्यू जलपाईगुड़ी (ब.ला.)
234 दीमापुर 235 तिनसुकिया जं. 236 किशनगंज (ब.ला.)
237 कटिहार 238 सिलचर 239 न्यू कूचबिहार


240 चैन्ने सेंट्रल पीआरएस (ब.ला.) 241 बेंगलुरु पीआरएस 242 कोयंबटूर
243 एर्णाकुलम जं. 244 चैन्ने बीच पीआरएस 245 चैन्ने सेंट्रल
246 तिरुवनंतपुरम सेंट्रल 247 कालीकट 248 त्रिचूर
249 मंगलोर 250 मदुरै जं. 251 बेंगलुरु सिटी
252 चैन्ने एग्मोर 253 क्विलन जं. 254 कोट्टायम
255 तिरुच्चिरापल्ली जं. 256 कण्णूर 257 सेलम
258 इरोड 258 इरोड 259 पालघाट
260 चेंगानूर 261 एर्णाकुलम टाउन 262 कटपडी
263 तिरुनलवेल्ली 264 तेल्लिचेरी 265 मैसूर
266 अरक्कोणम 267 तंबरम 268 बेंगलुरु कैंट
269 ऑल्वेन 270 तिरुवल्ला 271 तिरुप्पुर
272 शोरानूर जं. 273 चैन्ने बीच 274 तिरूर
275 तूतीकोरिन 276 चंगनाचेरी 277 तंजावूर
278 कोचीन हार्बर टर्मिनस 279 बडागड़ा 280 हुबली
281 साकरगोड 282 तिरुवल्लूर 283 दिंडीगुल
284 कुट्टीपुरम 285 चेंगलपट्टु जं.    

286 हैदराबाद डेक्कन 287 सिकंदराबाद 288 विजयवाड़ा
289 तिरुपति 290 राजामुंद्री 291 कांचेगुडा
292 गुंटूर 293 वारंगल 294 काजीपेट
295 नेल्लौर 296 औरंगाबाद 297 कोल्हापुर
298 नांदेड 299 खम्मम 300 ओंगोल
301 हुबली 302 तेनाली जं. 303 प्रभनी
304 मिराज ब.ला. 305 काकीनाडा टाउन 306 समालकोट
307 बेलगाम 308 रायचूर 309 इलुरु
310 रामागुंडम 311 चिराला 312 जालना
313 टाडेपल्लीगुडम 314 मडगांव 315 रेणिगुंटा
316 वास्को-डि-गामा 317 मंछरियाल 318 बेल्लारी जं.
319 अनाकापल्ली 320 निदादावोलु 321 गुडीवाडा
322 कुडप्पाह 323 टूनी 324 गुंतकल
325 निजामाबाद 326 गुडुर 327 भीमावरम जं.

328 खारगौर 329 बालेश्वर 330 मेछेदा
331 बैंगन 332 मिदनापुर 333 पांसकुरा
334 रांची 335 बोकारो स्टील सिटी 336 हटिया
337 आद्रा 338 टाटानगर 339 चक्रधरपुर
340 झारसुगुडा 341 राउरकेला 342 बिलासपुर
343 रायपुर 344 दुर्ग 345 भिलाई पावर हाउस
346 भाटापाड़ा 347 रायगढ़ 348 चम्पा
349 नागपुर 350 राजनंदगांव 351 गोंदिया
352 संबलपुर 353 विशाखापट्टनम 354 विजियानगरम
355 श्री काकुलम 356 बहरामपुर 357 भुवनेश्वर
358 कटक 359 पुरी 360 खुर्दा रोड
361 पलासा 362 भद्रक 363 बालासोर
364 शहडोल 365 इतवारी जं. 366 डूंगरगढ़

367 पीआरएस मुंबई 368 पीआरएस अहमदाबाद 369 सूरत
370 मुंबई सेंट्रल 371 वडोदरा 372 जयपुर
373 अंधेरी 374 बोरिवली 375 चर्चगेट
376 अहमदाबाद (ब.ला.) 377 मलाड 378 दादर
379 भरूच 380 अजमेर जं. 381 इंदौर जं. (ब.ला.)
382 गुड़गांव 383 उज्जैन (ब.ला.) 384 कोटा जं.
385 अहमदाबाद (मी.ला.) 386 विरूर 387 कांदिवली
388 वलसाड 389 बांद्रा 390 सांताक्रूज
391 भायंदर 392 राजकोट 393 ग्रांट रोड
394 रतलाम जं. (ब.ला.) 395 जोगेश्वरी 396 वसई रोड
397 वापी 398 नवसारी 399 विले पार्ले
400 गांधीधाम (ब.ला.) 401 आणंद 402 दहिसर
403 इंदौर (मी.ला.) 404 आगरा फोर्ट (मी.ला.) 405 उदयपुर सिटी
406 नडियाड (ब.ला.) 407 एल्फिंस्टन रोड 408 चर्नी रोड
409 खार रोड 410 अंकलेश्वर (ब.ला.) 411 बिलिमौरिया
412 माहिम 413 नालासोपारा 414 लोअर परेल
415 आगरा फोर्ट (ब.ला.) 416 मरीन लाइंस 417 बोइसर
418 मथुरा जं. 419 उधना 420 फालना
421 सीकर 422 पालघर 423 जामनगर
424 रतलाम (मी.ला.) 425 आबू रोड 426 अलवर
427 नागदा 428 सवाई माधोपुर 429 दाहनू रोड
430 पालनपुर 431 गंगापुर सटी 432 मेहसाणा
433 दाहोद 434 भोपाल 435 मणिनगर
436 भीलवाड़ा 437 चित्तौड़गढ़ 438 महालक्ष्मी
439 वधर्वा 440 सुरेन्द्रनगर (ब.ला.) 441 गोधरा जं.
442 नीमच 443 बांदीकुई जं. 444 बयाना जं.
445 मऊ 446 हिंडौन सिटी 447 भरतपुर जं.
448 वेरावल 449 पोरबंदर 450 आमलनेर
451 मारवाड़ जं. 452 भावनगर टर्मिनल    

(ii) स्टेशन मास्टर अपने स्टेशन से जारी ऐसे अप्रयुक्त टिकटों पर सामान्य रद्दकरण प्रभार वसूलने के बाद किराये का रिफंड दे सकता है, जो टिकट रिफंड नियमों के अनुसार निर्धारित समय-सीमा की समाप्ति के आधार पर काउंटर पर लौटाए नहीं जा सकते. 

(iii) स्टेशन प्रबंधक द्वारा यात्री के निर्धारित समय-सीमा के भीतर रिफंड न ले जाने के कारणों से संतुष्ट होने और यह सुनिश्चित कर लेने पर कि टिकट का उपयोग नहीं हुआ है, वह रिफंड दे सकता है. यदि वह संतुष्ट नहीं हो, तो केवल आरक्षित/आरएसी टिकटों के मामले में टीडीआर जारी करने की सामान्य प्रक्रिया का पालन किया जाएगा.